‘कोई कामकाज किए बगैर भी राहुल गांधी इतनी सुविधा संपन्न जीवनशैली कैसे जी लेते हैं?’  

— अरुण जेटली, भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता

अरुण जेटली ने यह बात कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘कांग्रेस अध्यक्ष ठाठ-बाट से रहते हैं. विदेश में छुट्टियां मनाने भी जाते हैं. सवाल यह है कि वे यह सब कुछ कैसे कर लेते हैं? क्योंकि उनकी आय का कोई पुख्ता स्रोत नहीं है.’ इसके साथ ही अरुण जेटली का यह भी कहना था, ‘राहुल गांधी यह सब कुछ संदिग्ध कारोबारियों को फायदा पहुंचाकर हासिल करते हैं.’

‘भारतीय जनता पार्टी, कांग्रेस के न्याय के वादे से परेशान हो गई है.’  

— रणदीप सिंह सुरजेवाला, कांग्रेस के प्रवक्ता

रणदीप सिंह सुरजेवाला ने यह बात लोकसभा चुनाव के मद्देनजर जारी किए गए कांग्रेस के चुनावी घोषणापत्र की तारीफ करते हुए कही है. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘कांग्रेस के घोषणापत्र को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में हताशा है. इसका असर बुधवार को दिए गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषणों में भी दिखा है.’ रणदीप सिंह सुरजेवाला का यह भी कहना था, ‘नरेंद्र मोदी फर्जी दुष्प्रचार और खोखले बयान के विशेषज्ञ हैं. लेकिन बीते पांच सालों के कार्यकाल को देखते हुए अब उनके भाषणों को सुनने के लिए कोई तैयार नहीं है.’


‘न्याय के लिए पैसों का इंतजाम उन चोर कारोबारियों की जेब से किया जाएगा जिन्हें नरेंद्र मोदी बचा रहे हैं.’  

— राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष

राहुल गांधी ने यह बात असम के गोलघाट में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘एक तरफ चौकीदार (नरेंद्र मोदी) का हर व्यक्ति के खाते में 15 लाख रुपये डलवाने वाला झूठ है तो वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस का सच.’ राहुल गांधी ने आगे कहा, ‘अगर केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनी तो अगले पांच सालों में हम देश के 20 फीसदी सबसे गरीब लोगों के बैंक खातों में गारंटी के साथ तीन लाख 60 हजार रुपये जमा करवाएंगे.’


‘ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल की विकास की राह में स्पीड ब्रेकर हैं.’  

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

नरेंद्र मोदी ने यह बात पश्चिम बंगाल के सिलिगुड़ी और कोलकाता में हुई चुनावी रैलियों को संबोधित करते हुए कही. इस मौके पर उन्होंने कहा, ‘केंद्र सरकार ने आयुष्मान भारत और किसान सम्मान निधि जैसी योजनाएं शुरू कीं. लेकिन पश्चिम बंगाल के लोगों को इसका लाभ नहीं मिल सका. क्योंकि यहां की दीदी (ममता बनर्जी) ने इन योजनाओं पर रोक लगा दी.’ इस दौरान उनका यह भी कहना था, ‘राज्य के विकास और समृद्धि के लिए दीदी को सत्ता से बाहर करना होगा.’


‘नरेंद्र मोदी एक्सपायरी बाबू हैं, उन्हें गरीबों और किसानों के लिए किए गए कामों का हिसाब देना चाहिए.’  

— ममता बनर्जी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री

ममता बनर्जी ने यह बात नरेंद्र मोदी द्वारा उन्हें विकास की राह में ‘स्पीड ब्रेकर’ बताए जाने पर उनपर पलटवार करते हुए कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘मेरे नेतृत्व में पश्चिम बंगाल के किसानों की आय तीन गुना बढ़ी है. लेकिन मोदी के पांच साल के शासन में 12 हजार किसानों ने आत्महत्या की है.’ इसके साथ ही ‘राष्ट्रवाद’ को लेकर भी उन्होंने भाजपा पर निशाना साधा. ममता बनर्जी ने कहा, ‘हम स्वामी विवेकानंद और रबींद्रनाथ टैगोर की धरती पर जन्म लेने वाले लोग हैं. हमें किसी दूसरे से राष्ट्रवाद का सर्टिफिकेट लेने की जरूरत नहीं है.’