उत्तरी अफ्रीका के देश सूडान में राष्ट्रपति के इस्तीफे की मांग कर रहे प्रदर्शनकारियों पर सुरक्षा बलों की फायरिंग में मरने वालों की संख्या 60 पहुंच गई है. पीटीआई के मुताबिक सूडान में सक्रिय एक अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार समूह ‘फिजिशियन फॉर ह्यूमन राइट्स’ ने इसकी जानकारी दी है.

इस समूह से जुड़े अधकारियों ने शुक्रवार को मीडिया को बताया कि पिछले तीन महीनों से सूडान के राष्ट्रपति उमर अल बशीर के इस्तीफे की मांग को लेकर लोग सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं. इन प्रदर्शनों में सुरक्षा बलों ने कई बार प्रदर्शनकारियों पर फायरिंग की. अधिकारियों ने कहा, ‘हमारे कार्यकर्ताओं की रिपोर्ट के अनुसार इस फायरिंग में अब तक कम से कम 60 प्रदर्शनकारी मारे गए हैं.’ हालांकि, सरकारी आंकड़े के तहत अब तक केवल 30 प्रदर्शनकारी ही मरे हैं.

अमेरिका की संस्था ‘फिजिशियन फॉर ह्यूमन राइट्स’ के मुताबिक पिछले तीन महीनों में राष्ट्रपति अल बशीर के सुरक्षा बलों ने कम से कम सात चिकित्सा शिविरों पर हमला किया और कम से कम 136 स्वास्थ्य कर्मियों को गिरफ्तार किया. उन्होंने रोगियों को चिकित्सा से वंचित करने मकसद से अस्पताल के वार्डों में आसू गैस के गोले छोड़े और अन्य हथियारों का इस्तेमाल किया.

बीते साल दिसंबर में कीमतों में वृद्धि के बाद सूडान की सरकार के खिलाफ प्रदर्शन शुरू हुआ था. धीरे-धीरे ये प्रदर्शन राष्ट्रपति के इस्तीफे की मांग में तब्दील हो गया.