पाकिस्तान ने भारत से मांग की है कि वह दोनों देशों के बीच 27 फरवरी को हुए हवाई संघर्ष को लेकर सच बोले. पाकिस्तान ने यह मांग एक अमेरिकी पत्रिका द्वारा भारत के उस दावे पर सवाल उठाने के बाद की है जिसमें भारत ने पाकिस्तान का एक एफ-16 लड़ाकू विमान मार गिराने का दावा किया था.

पीटीआई के मुताबिक शुक्रवार को पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने कहा कि 27 फरवरी को भारत ने कोई एफ-16 नहीं मारा था बल्कि जो दूसरा विमान गिरा था वह भी भारत का ही था, जिसे पाकिस्तानी वायु सेना ने गिराया था. गफूर के मुताबिक इस संबंध में अमेरिकी अधिकारियों का बयान सामने आने के बाद अब भारत को पाकिस्तान द्वारा मार गिराये गए दूसरे विमान को लेकर अपने झूठे दावों पर सफाई देनी चाहिए.

गफूर का कहना था, ‘सच की हमेशा जीत होती है. हिंदुस्तान के लिये झूठे दावों और पाकिस्तान द्वारा मार गिराये गए दूसरे विमान समेत हुए वास्तविक नुकसान पर सच बोलने का वक्त है.’

अमेरिका स्थित फॉरेन पॉलिसी पत्रिका ने 27 फरवरी की स्थिति की सीधी जानकारी रखने वाले दो वरिष्ठ अमेरिकी रक्षा अधिकारियों के हवाले से एक रिपोर्ट लिखी है. इन अधिकारियों का कहना है कि अमेरिकी अधिकारियों ने हाल ही में पाकिस्तान में एफ-16 की गिनती की और पाया कि कोई भी विमान लापता नहीं है.

रिपोर्ट में कहा गया है, ‘अमेरिकी अधिकारियों का यह खुलासा सीधे तौर पर भारतीय वायुसेना के अधिकारियों के उन दावों के विपरीत है, जिसमें उन्होंने कहा था कि विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान ने एक पाकिस्तानी एफ-16 विमान को मार गिराया था और इसके बाद उनका विमान एक पाकिस्तानी मिसाइल की जद में आ गया था.’

27 फरवरी को पाकिस्तान के साथ हुए हवाई संघर्ष के बाद भारत ने कहा था कि उसके एक मिग-21 विमान ने पाकिस्तानी एफ-16 लड़ाकू विमान को मार गिराया और बाद में वह खुद पाकिस्तानी मिसाइल की चपेट में आ गया. उस विमान के पायलट वर्धमान को पाकिस्तान ने पकड़ लिया था और एक मार्च को तनाव को कम करने की कोशिशों के तहत भारत को सौंप दिया था.

हालांकि, पाकिस्तान ने भारतीय वायु सेना के दावों को खारिज करते हुए कहा था कि उसका कोई विमान नहीं गिराया गया है. तब पाकिस्तान ने यह भी दावा किया था कि संघर्ष के दौरान उसने भारतीय वायुसेना के एक दूसरे विमान को भी मार गिराया, हालांकि भारत ने इस दावे को खारिज कर दिया था.