लोकसभा चुनाव के मद्देनजर राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने भी अपना घोषणापत्र जारी कर दिया है. ‘प्रतिबद्धता पत्र’ के नाम से सोमवार को इसकी घोषणा आरजेडी के नेता तेजस्वी यादव ने की. इस मौके पर राज्यसभा सांसद मनोज झा और पार्टी के वरिष्ठ नेता रामचंद्र पूर्वे भी उनके साथ मौजूद थे. घोषणापत्र जारी करने के मौके पर तेजस्वी यादव ने कहा, ‘अगर उनकी सरकार बनी तो मंडल आयोग की सभी सिफारिशें लागू कराई जाएंगी. निजी क्षेत्र में आरक्षण की व्यवस्था लागू कराने के प्रयास किए जाएंगे. साथ ही सरकारी नौकरियों के प्रमोशन में भी आरक्षण को लेकर कदम उठाए जाएंगे.’

राजद ने अपने घोषणापत्र में खाली पड़े सरकारी पदों को तय समय के भीतर भरने का वादा भी किया है. साथ ही यह भी कहा है कि 2021 तक बिहार में जातिगत जनगणना करवाई जाएगी और दलितों को उनकी आबादी के हिसाब से आरक्षण दिया जाएगा. इसके अलावा बिहार से पलायन रोकने के लिए उचित कदम उठाए जाएंगे. राजद ने ‘हर थाली में खाना देने और हर हाथ में कलम’ पकड़ाने का वादा भी किया है.

तेजस्वी यादव ने यह भी कहा है, ‘जब मेरे पिता लालू प्रसाद यादव राज्य के मुख्यमंत्री थे तो उस वक्त बिहार में ताड़ी टैक्स से मुक्त थी. लेकिन 2016 में नीतीश कुमार की अगुवाई वाली सरकार ने शराब और ताड़ी को बिहार में प्रतिबंधित कर दिया. अगर हमारी सरकार बनी तो ताड़ी के बिक्री और सेवन को वैध किया जाएगा.’ इसके साथ ही उन्होंने कांग्रेस के घोषणापत्र पर अपना समर्थन जताया. साथ ही यह भी कहा है कि कांग्रेस की न्यूनतम आय गारंटी योजना (न्याय) से गरीबों को लाभ पहुंचेगा.

गौरतलब है कि बिहार में राजद और कांग्रेस साथ मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं. इन दोनों दलों के इस ‘महागठबंधन’ में सीपीआई-एमएल, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (आरएलएसपी) और विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के अलावा हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (एचएएम) भी शामिल हैं.