राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने बुधवार को जम्मू-कश्मीर के अलगाववादी नेता यासीन मलिक को ग़िरफ़्तार कर लिया. इसके बाद उसे पुलिस सुरक्षा में तिहाड़ जेल भेज दिया गया. यासीन मलिक अलगाववादी संगठन जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) का प्रमुख है.

ख़बरों के मुताबिक यासीन मलिक को मंगलवार शाम राष्ट्रीय राजधानी लाया गया था. एनआईए की विशेष अदालत ने यासीन मलिक को हिरासत में लेकर पूछताछ करने की मंज़ूरी दी है. इसके बाद यह क़दम उठाया गया है. वैसे यासीन मलिक को इस साल फरवरी में जम्मू-कश्मीर पुलिस ने ऐहतियाती तौर पर हिरासत में लिया था.

ग़िरफ़्तार किए जाने के बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस ने यासीन मलिक को जम्मू की जेल में स्थानांतरित कर दिया था. यासीन मलिक पर आरोप है कि वह जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियों, पत्थरबाज़ी आदि के लिए धन मुहैया कराता है. कहा जाता है कि मलिक और अन्य अलगाववादी नेताओं के पास यह पैसा पाकिस्तान से आता है. एनआईए इस मामले की जांच कर रही है.