ब्रिटेन और यूरोपीय संघ (ईयू) के नेता ब्रेक्जिट की तारीख (ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से बाहर जाने की समयसीमा) को बढ़ा कर 31 अक्टूबर करने पर सहमत हो गए हैं. यूरोपीय संघ के 27 सदस्य देशों के शीर्ष नेताओं ने गुरुवार के दिन छह घंटे की बैठक के बाद यह फैसला किया. ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरेसा मे ने ब्रेक्जिट की समयसीमा 30 जून तक बढ़ाने का आग्रह किया था. लेकिन यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष डोनाल्ड टस्क ने मे के सामने 31 अक्टूबर वाला प्रस्ताव रखा. पीटीआई के मुताबिक टस्क ने एक ट्वीट में कहा, ‘ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरेसा मे लंबे ‘लचीले’ विस्तार के लिए सहमत हैं. इसका अर्थ है कि ब्रिटेन को बेहतर संभव समाधान खोजने के लिए छह महीने का समय और मिलेगा.’

बता दें कि ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से बाहर जाने की समयसीमा 12 अप्रैल को खत्म हो रही थी. उससे पहले ब्रिटेन के शीर्ष नेताओं ने रात्रिभोज बैठकों पर चर्चा की. इस दौरान मे ने एक आपातकाल शिखर बैठक में ब्रेक्जिट की समयसीमा को 12 अप्रैल से आगे बढ़ाने का अनुरोध किया था. खबर के मुताबिक कुछ सदस्य देशों ने ब्रिटेन के साथ सहानुभूति जताई है. हालांकि फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने यूरोपीय संघ के नेताओं के साथ बैठक से पहले चेतावनी दी थी. सम्मेलन में पहुंचे मैक्रों ने कहा कि अभी कुछ भी फैसला नहीं हुआ है और मे ‘स्पष्ट’ करें कि ब्रिटेन क्या चाहता है.