विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे को ब्रिटेन की पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. खबरों के मुताबिक गुरुवार को उन्हें ब्रिटेन के लंदन में स्थित इक्वाडोर के दूतावास से गिरफ्तार किया गया. बताया जाता है कि यह गिरफ्तारी कोर्ट की एक पेशी के दौरान उनके हाजिर न होने की वजह से की गई है. इससे पहले जूलियन असांजे ने यौन उत्पीड़न के एक मामले से बचने के लिए 2012 में इस दूतावास में शरण ली थी. उसके बाद से वे इसी दूतावास में रह रहे थे. हालांकि यौन उत्पीड़न का वह मामला बाद में वापस भी ले लिया गया था.

इधर, ब्रिटेन के गृह सचिव साजिद जाविद ने भी एक ट्वीट के जरिये जूलियन असांजे की गिरफ्तारी की पुष्टि की है. साथ ही गिरफ्तारी में ‘सहयोग’ के लिए इक्वाडोर का आभार भी जताया है. इस दौरान इक्वाडोर के राष्ट्रपति ने अंतरराष्ट्रीय कानूनों के उल्लंघन का हवाला देते हुए असांज को दिए गए राजनीतिक शरणार्थी का दर्जा वापस लिए जाने की बात कही है. वहीं विकीलीक्स ने असांजे को मिली शरण वापस लिए जाने को अंतरराष्ट्रीय कानूनों का उल्लंघन बताया है.

एक पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता व कम्प्यूटर प्रोगामर के तौर पर पहचान बनाने वाले जूलियन असांजे का जन्म तीन जुलाई 1971 को ऑस्ट्रेलिया में हुआ था. उन्होंने 2006 में विकीलीक्स की शुरुआत की थी. इस खोजी वेबसाइट ने दुनिया की विभिन्न सरकारों और संगठनों की अनेक गोपनीय जानकारियों प्रकाशित की थीं. असांजे ने 2010 में अमेरिका के तमाम कूटनीतिक और सेना से जुड़े गोपनीय दस्तावेजों को सार्वजनिक करके दुनियाभर में सनसनी मचा दी थी. इन दस्तावेजों में अमेरिका, इंग्लैंड तथा नाटो के खिलाफ दुनिया के कई देशों में गंभीर युद्ध अपराध करने के प्रमाण मौजूद थे. प्रतिष्ठित टाइम पत्रिका की तरफ से 2010 में ‘पर्सन ऑफ द ईयर’ के खिताब से नवाजे जाने वाले असांजे के खिलाफ अमेरिका में आपराधिक मामला भी दर्ज है. माना जा रहा है कि उन्हें अमेरिका को प्रत्यर्पित किया जा सकता है.