2019 के लोकसभा चुनावों की शुरुआत गुरुवार को झड़पों, ईवीएम में गड़बड़ी और कई अन्य शिकायतों के साथ हुई. आंध्र प्रदेश में हुई हिंसक झड़पों में दो लोग मारे गए. गुरुवार को 18 राज्यों और दो केंद्रशासित प्रदेशों की 91 लोकसभा सीटों पर वोटिंग हुई. इन लोकसभा सीटों पर मतदाताओं की संख्या करीब 14 करोड़ थी.

आंध्र प्रदेश में पहले चरण में लोकसभा की 25 और विधानसभा की 175 सीटों के लिए वोटिंग कराई गई. आंध्र के अनंतपुरम जिले के तड़ीपत्री विधानसभा क्षेत्र के एक गांव में हुई झड़प में सत्ताधारी तेदेपा के एक कार्यकर्ता और मुख्य विपक्षी वाईएसआर कांग्रेस के एक कार्यकर्ता की मौत हो गई.

महाराष्ट्र में नक्सलियों ने मतदान के वक्त गढ़चिरौली जिले के वाघेजरी इलाके के एक मतदान केंद्र के पास एक आईईडी धमाका किया. महाराष्ट्र के ही एटापल्ली में हुए एक आईईडी धमाके में चुनाव दल को लेकर जा रहे दो पुलिस कमांडो जख्मी हो गए. छत्तीसगढ़ के बीजापुर में मतदान के वक्त चार नक्सली गिरफ्तार किए गए और उनके पास से हथियार जब्त किए गए. वहीं, बस्तर क्षेत्र के नारायणपुर में नक्सलियों ने एक आईईडी धमाका किया, लेकिन इसमें कोई हताहत नहीं हुआ.

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कैराना में बीएसएफ जवानों को एक मतदान केंद्र पर हवा में फायरिंग करनी पड़ी. जम्मू-कश्मीर में नेशनल कांफ्रेंस और पीडीपी ने आरोप लगाया कि कुछ वर्दीधारी जवानों ने लोगों को भाजपा के पक्ष में वोट डालने के लिए मजबूर किया और कुछ जगहों पर ईवीएम में गड़बड़ियां सामने आईं.

चुनाव आयोग के मुताबिक, उत्तर प्रदेश की आठ लोकसभा सीटों पर करीब 63.69 फीसद वोटरों ने मताधिकार का प्रयोग किया. वहीं, पश्चिम बंगाल से आए आंकड़ों के मुताबिक मतदान प्रतिशत 81 फीसद तक पहुंचा. जम्मू में भी मतदान प्रतिशत 70 फीसद से ज्यादा बताया जा रहा है.