भारतीय जनता पार्टी इस बार लोक सभा की लगभग 437 सीटों पर उम्मीदवार उतार सकती है. पार्टी के एक वरिष्ठ नेता के मुताबिक ‘अब तक 408 उम्मीदवार घोषित किए जा चुके हैं. लगभग 29 नाम और बाकी हैं.’ ख़बरों के मुताबिक भाजपा के अब तक के इतिहास में लोक सभा उम्मीदवारों की यह सबसे बड़ी संख्या है.

ख़बरों में बताया गया है कि भाजपा ने इससे पहले 2009 में सबसे ज़्यादा लोक सभा की 543 में से 433 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे. जबकि 2014 में 428 सीटों पर ही उम्मीदवार उतारे गए थे. वहीं 1999 और 2004 में क्रमश: 339 और 364 सीटों पर प्रत्याशी खड़े किए थे. एक अन्य भाजपा नेता के मुताबिक, ‘पार्टी को अभी दिल्ली की सातों सीटों के लिए उम्मीदवार घोषित करना है. यहां कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच गठबंधन की स्थिति स्पष्ट होने का इंतज़ार किया जा रहा है.’

उन्होंने बताया, ‘दिल्ली के अलावा उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश आठ-आठ, पंजाब की तीन, हरियाणा की दो और राजस्थान की एक सीट पर भी उम्मीदवार अभी घोषित किए जाने हैं. इन सभी प्रत्याशियों के नाम अगले कुछ दिनों में घोषित कर दिए जाएंगे.’ जानकारों के मुताबिक भाजपा के उम्मीदवारों की संख्या बढ़ने का एक कारण आंध्र प्रदेश और तेलंगाना जैसे राज्य हो सकते हैं. इन दोनों ही राज्यों में पार्टी अकेले सभी सीटों पर चुनाव लड़ रही है. जबकि पहले घटक दलों के साथ लड़ी थी.