सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को अयोध्या मामले में दायर एक अर्ज़ी ख़ारिज़ करते हुए याचिकाकर्ताओं पर सख़्त टिप्पणी की. अदालत ने पूछा, ‘क्या आप इस देश के लोगों को शांति से रहने नहीं देंगे.... हमेशा कोई न कोई आकर नाक घुसा (मामले में बेवज़ह दख़लंदाज़ी) ही देता है.’

ख़बरों के मुताबिक शीर्ष अदालत में इलाहाबाद हाई कोर्ट के आदेश के ख़िलाफ़ अपील की गई थी. दरअसल, कुछ धार्मिक समूह इस रामनवमी पर अयोध्या में पूजा-अर्चना करना चाहते थे. इस बाबत उन्होंने हाई कोर्ट से इजाज़त मांगी. लेकिन हाईकोर्ट ने उनकी अर्ज़ी ख़ारिज़ कर दी. यही नहीं याचिका लगाने वालों पर उच्च न्यायालय ने पांच लाख रुपए का ज़ुर्माना भी ठोक दिया.

ख़बरों के मुताबिक हाईकोर्ट के आदेश के ख़िलाफ़ की गई अपील को शीर्ष अदालत ने भी ख़ारिज़ कर दिया. साथ ही याचिकाकर्ताओं पर हाईकोर्ट द्वारा लगाया गया ज़ुर्माना हटाने से भी साफ इंकार कर दिया. सुप्रीम कोर्ट ने इसके साथ यह भी जोड़ा कि देश में शांति और सांप्रदायिक सौहार्द की स्थिति में व्यवधान पैदा नहीं किया जाना चाहिए.