प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीवन पर ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ नाम से बनी फिल्म की रिलीज़ का मामला फिर सुप्रीम कोर्ट में पहुंच गया है. यह फिल्म 11 अप्रैल काे रिलीज़ होने वाली थी. लेकिन चुनाव आयोग ने इसके एक दिन पहले 10 अप्रैल को इस पर प्रतिबंध लगा दिया. आयोग के इस आदेश के ख़िलाफ़ फिल्म के निर्माता संदीप सिंह सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई है.

ख़बरों के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट संदीप सिंह की याचिका पर सुनवाई के राज़ी हो गया है. उसने इस पर 15 अप्रैल को सुनवाई तय की है. फिल्म के चार निर्माताओं की ओर से अदालत में पैरवी करने वाले वकील हितेश जैन ने द इंडियन एक्सपेस से कहा, ‘चुनाव आयोग का आदेश संविधान के अनुच्छेद-32 का उल्लंघन है. अभिव्यक्ति की आज़ादी पर चोट है.’

हितेश जैन ने कहा, ‘सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की बेंच पूर्व में स्पष्ट कर चुकी है. शीर्ष अदालत ने स्पष्ट कहा है कि चुनाव आयोग को संविधान के अनुच्छेद-324 के तहत पर्याप्त अधिकार हैं. लेकिन उनकी भी एक सीमा है. अगर संसद या किसी राज्य की विधायिका ने किसी मामले में कानून बनाया हुआ है तो आयोग को उसके हिसाब से काम करना चाहिए.’

ग़ौरतलब है कि इससे पहले चुनाव के दौरान ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ की रिलीज़ रुकवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी. इसे शीर्ष अदालत ने ख़ारिज़ कर दिया था. उस वक़्त अदालत ने कहा था कि ऐसे में मामलों में फ़ैसला लेने के लिए चुनाव आयोग सक्षम है और अधिकृत भी.