आंध्र प्रदेश में इस बार इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) की ख़राबी ने मतदान प्रक्रिया को काफ़ी बाधित किया. इसकी वज़ह से कई जगहों पर आधी रात तक भी मतदान चलता रहा.

राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी गोपाल कृष्ण द्विवेदी के हवाले से आई ख़बरों में यह जानकारी दी गई है. बताया जाता है कि ईवीएम में तकनीकी ख़राबी की ख़बरें मिलने के बाद द्विवेदी ने स्पष्ट आदेश दिया था. इसमें कहा था, ‘शाम छह बजे तक मतदान केंद्र पर जितने भी लोग लाइन में लग चुके हों उन सब को वोट देने दिया जाए. भले आधी रात हो जाए.’

ख़बरों की मानें तो द्विवेदी के इस आदेश के बाद विभिन्न जिलों के लगभग 400 मतदान केंद्रों पर गुरुवार आधी रात तक मतदान चलता रहा. इसीलिए माना जा रहा है कि मतदान प्रतिशत का अंतिम आंकड़ा अभी और ऊपर जा सकता है. राज्य की 175 विधानसभा और 25 लोक सभा सीटों के लिए 11 अप्रैल को शाम छह बजे तक लगभग 74 फ़ीसदी मतदान हुआ था.

ईवीएम में ख़राबी का मसला मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने भी उठाया था. उन्होंने गुरुवार को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को पत्र लिखा था. इसमें उन्होंने 150 मतदान केंद्रों पर फिर मतदान कराने की मांग की थी. प्रदेश में मतदान के दौरान हिंसा की लगभग 25 घटनाएं सामने आईं. इनमें तेलुगु देशम पार्टी और वाईएसआर कांग्रेस के एक-एक कार्यकर्ता की जान भी चली गई.