कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर निशाना साधते हुए कहा है कि वे तमिलनाडु पर ‘नागपुर (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ मुख्यालय) का शासन नहीं चलने देंगे.’ कांग्रेस अध्यक्ष ने आज यह बात तमिलनाडु के कृष्णागिरी में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘2021 में राज्य में विधानसभा के चुनाव होने हैं. उस चुनाव में हम द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) अध्यक्ष एमके स्टालिन को यहां का मुख्यमंत्री बनाएंगे.’

राहुल गांधी ने आगे कहा, ‘इस आम चुनाव में कांग्रेस ने तमिलनाडु के उन दलों के साथ गठजोड़ किया है जो स्वायत्ता, न्याय और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता में यकीन रखते हैं.’ इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए उन्होंने नीरव मोदी, विजय माल्या, मेहुल चोकसी और अनिल अंबानी जैसे चुनिंदा कारोबारियों के लिए काम करने का आरोप भी लगाया. साथ ही कहा कि बैंकों का कर्ज न चुका पाने के लिए किसानों को मोदी सरकार ने जेल भेज दिया पर ऐसे ही अपराध के लिए वह अमीरों को वह बचाती रही है.

इस मौके पर उनका यह भी कहना था कि अगर केंद्र में उनकी पार्टी की सरकार बनी तो महिलाओं के लिए 33 फीसदी आरक्षण की व्यवस्था लागू की जाएगी. ऐसा होने से जन प्रतिनिधित्व में उनकी भागीदारी बढ़ेगी. साथ ही केंद्रीय नौकरियों में भी उन्हें आरक्षण का लाभ मिलेगा. इसके अलावा राहुल गांधी ने न्यूनतम आय गारंटी योजना (न्याय) के फायदों पर भी चर्चा की.

तमिलनाडु और पुड्डुचेरी में कांग्रेस डीएमके, सीपीआई- एम, एमडीएमके, वीसीके, आईजेके, केएमडीके और आईयूएमएल के साथ गठबंधन करके चुनावी मैदान में उतरी है. इस गठबंधन के तहत डीएमके ने 20 जबकि कांग्रेस और अन्य दलों को दस-दस संसदीय सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं. तमिलनाडु में चुनावी प्रक्रिया के दूसरे चरण के तहत आगामी 18 तारीख को वोट डाले जाएंगे.