चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी पर अंपायर से बहस करने के मामले में मैच फीस का 50 प्रतिशत जुर्माना लगाया गया है. आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मैच में धोनी ने अंपायर के एक फैसले पर तीखी प्रतिक्रिया दी थी. जिसके बाद माना जा रहा था कि उन पर मैच फीस के जुर्माने के साथ कुछ मैचों का प्रतिबंध भी लगाया जा सकता है.

बीसीसीआई ने इस मामले में अपनी प्रतिक्रिया में कहा, ‘चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी पर मैच फीस का 50 प्रतिशत जुर्माना लगाया गया. उन्होंने जयपुर में राजस्थान रायल्स के खिलाफ मैच के दौरान आईपीएल आचार संहिता का उल्लंघन किया.’ इस विज्ञप्ति में यह भी कहा गया है कि महेंद्र सिंह धोनी ने अपना अपराध और सजा स्वीकार कर ली है.

मैच के दौरान अंपायर गंधे ने राजस्थान रॉयल्स के गेंदबाज बेन स्टोक्स की एक गेंद को नोबॉल करार दिया. लेकिन स्कवायर लेग अंपायर से सलाह के बाद उन्होंने अपना फैसला बदल दिया. इसके बाद एमएस धोनी गुस्से में उनकी तरफ आए थे और बहस की थी. आईसीसी की आचार संहिता के तहत अंपायर के फैसले पर असंतोष जताने पर एक टेस्ट या दो वनडे का प्रतिबंध लग सकता है. लेकिन धोनी पर सिर्फ मैच फीस का जुर्माना लगाया गया है जो आईपीएल के नियमों के मुताबिक उनकी टीम चेन्नई सुपर किंग्स भरेगी.