प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने न्यूनतम आय गारंटी योजना (न्याय) को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा है. नरेंद्र मोदी का कहना है कि इस योजना के जरिये कांग्रेस ‘अब होगा न्याय’ की बात कह रही है. भले ही उसकी ऐसा करने की मंशा न हो. लेकिन ऐसा कहकर कांग्रेस ने मान लिया है कि उसने 60 साल तक देश के साथ ‘अन्याय’ किया है.

इसके साथ ही सवालिया लहजे में नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा, ‘मैं कांग्रेस से जानना चाहता हूं कि 1984 के सिख विरोधी दंगों में कौन न्याय करेगा. दलित विरोधी दंगों के पीड़ितों के साथ कौन न्याय करेगा. भारत की सबसे खराब पर्यावरण आपदा, भोपाल गैस त्रासदी के पीड़ितों के साथ कौन न्याय करेगा. महान एमजी रामचंद्रन की सरकार के साथ कौन न्याय करेगा, जिसे कांग्रेस ने सिर्फ इसलिए बर्खास्त कर दिया था क्योंकि एक परिवार को वह नेता पसंद नहीं थे.’ प्रधानमंत्री मोदी ने ये बातें तमिलनाडु के रामनाथपुरम में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहीं.

इस मौके पर प्रधानमंत्री ने आतंकवाद को लेकर भी कांग्रेस पर निशाना साधा. उन्होंने कहा, ‘देश में जब कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों का शासन था तो नियमित रूप से आतंकी हमले हुए. एक के बाद एक शहरों में बम धमाके होते रहे और कांग्रेस की सरकार मूक दर्शक की तरह उन्हें देखती रही. लेकिन राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) की सरकार ने ऐसे हमलों पर लगाम लगाई है.’ उन्होंने आगे कहा, ‘जो लोग देश की सुरक्षा नहीं कर सकते वे देश का विकास भी नहीं कर सकते.’

इसके साथ ही उन्होंने ने यह भी कहा कि तमिलनाडु में कांग्रेस, अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) और कई दूसरे स्थानीय दलों के साथ गठबंधन करके यह चुनाव लड़ रही है. लेकिन कांग्रेस के इस गठबंधन का समर्थन करने का मतलब ‘उच्च कर और कम विकास’ होगा. मोदी के मुताबिक इस सरकार में एक बार फिर अपराधियों और आतंकवादियों को खुली छूट मिलेगी जिससे देश का विकास प्रभावित होगा.