केंद्रीय मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता पीयूष गोयल ने रविवार को कहा कि गरीबों के लिये कांग्रेस की न्यूनतम आय योजना जिस तरह से सोची गयी है, वह अपने आप में तबाही है. उन्होंने कहा कि यह एक अन्य घोटाले का रास्ता खोलेगा क्योंकि लाभार्थियों का चयन पूरी तरह से भ्रष्टाचार से प्रभावित होगा.

गोयल ने पीटीआई-भाषा से एक साक्षात्कार में कहा, ‘आर्थिक एवं वित्तीय सूझबूझ के दृष्टिकोण से यह योजना त्रासदी है. मुझे यह लगभग असंभव प्रतीत होती है क्योंकि लोगों के वेतन और आय के बारे में कोई आंकड़ा उपलब्ध नहीं है.’ उन्होंने कहा, ‘लाभार्थियों का चयन पूरी तरह से भ्रष्टाचार से भरा होगा और यह अपने आप में ही एक घोटाला बन सकता है. यह उन घोटालों की श्रृंखला की एक और कड़ी बन जाएगा जिसके लिये कांग्रेस कुख्यात है.’

कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में वादा किया है कि यदि वह सत्ता में आयी तो देशभर के 20 प्रतिशत सबसे गरीब लोगों के बैंक खाते में सालाना 72 हजार रुपये जमा करेगी. कांग्रेस पार्टी ने इस योजना को न्याय नाम दिया है. जहां एक ओर कांग्रेस पार्टी के नेताओं का कहना है कि इस प्रस्तावित योजना ने मतदाताओं को बड़े स्तर पर आकर्षित किया है, वहीं भाजपा ने इसे पूरी तरह से अव्यवहारिक और अर्थव्यवस्था के खिलाफ बताया है.