सबसे अधिक चुनावी चंदा मिलने के मामले में भाजपा सबसे आगे है. लेकिन सबसे अधिक बैंक बैलेंस के मामले में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने सभी राजनीतिक दलों को पीछे छोड़ दिया है. टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक बसपा ने फरवरी में चुनाव आयोग को जानकारी दी थी कि सरकारी बैंकों की एनसीआर स्थित शाखाओं में चल रहे उसके आठ खातों में कुल 669 करोड़ रुपये हैं. दूसरे नंबर पर उसकी गठबंधन सहयोगी समाजवादी पार्टी (सपा) है जिसका बैंक बैलेंस 471 करोड़ रुपये हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक इस मामले में तीसरे नंबर पर कांग्रेस है. उसके बैंक खातों में 196 करोड़ रुपये हैं. हालांकि यह जानकारी पिछले साल कर्नाटक विधानसभा चुनावों के समय (नवंबर) की है. दिसंबर में तीन राज्यों (राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़) में मिली चुनावी जीत के बाद कांग्रेस ने अपने खातों को लेकर नई जानकारी अभी तक नहीं दी है. वहीं, उन चुनावों के बाद सपा के बैंक बैलेंस में 11 करोड़ रुपये कम हुए हैं.

उधर, इलेक्टोरल बॉन्ड के जरिये सबसे ज्यादा चुनावी चंदा लेने वाली भाजपा इस मामले में पांचवें नंबर पर है. सबसे ज्यादा बैंक बैलेंस वाले दलों में वह तेलेगु देसम पार्टी से भी पिछड़ गई है जो 107 करोड़ रुपये के साथ इस सूची में चौथे नंबर पर है. वहीं, भाजपा का बैंक बैलेंस 82 करोड़ रुपये हैं. रिपोर्ट के मुताबिक यह दिसंबर 2018 के आंकड़े हैं.