चुनाव आयोग को लेकर दाखिल एक याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा है कि फिलहाल इस मामले में कोई आदेश जारी नहीं किया जाएगा. सुप्रीम कोर्ट का यह रुख चुनाव आयोग द्वारा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बसपा प्रमुख मायावती के खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन के मामले में कार्रवाई के बाद देखने को मिला है. इसी हवाले से सुप्रीम कोर्ट ने आज कहा कि ‘लगता है, आयोग को अपनी ताकत वापस मिल गई है.’

इस याचिका के जरिए सुप्रीम कोर्ट से चुनाव आयोग को धर्म-जाति के आधार पर वोट मांगने वाले नेताओं के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश देने की अपील की गई है. वहीं सोमवार को देश की शीर्ष अदालत ने इस मामले में आयोग को फटकार भी लगाई थी. इसके जवाब में आयोग का कहना था कि उसकी ताकत सीमित है और वह आचार संहिता उल्लंघन के मामलों में उम्मीदवारों को अयोग्य नहीं ठहरा सकता.

इससे पहले सोमवार को आचार संहिता उल्लंघन के मामले में कार्रवाई करते हुए चुनाव आयोग ने योगी आदित्यनाथ पर तीन दिन और मायावती पर दो दिन तक चुनाव प्रचार करने पर पाबंदी लगा दी थी. वहीं आज सुप्रीम कोर्ट ने इस फैसले के खिलाफ बसपा प्रमुख की याचिका भी खारिज कर दी है.