बांग्लादेश के लोकप्रिय अभिनेता फिरदौस अहमद को तुरंत देश से वापस जाने का आदेश दिया गया है. पीटीआई के मुताबिक उनका बिजनेस वीजा रद्द कर दिया गया है. एक अधिकारी ने मंगलवार को इस बारे में जानकारी दी. दो दिन पहले फिरदौस अहमद द्वारा पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के लिए कथित तौर पर चुनाव प्रचार करने से विवाद पैदा हो गया था. पश्चिम बंगाल के प्रदेश भाजपा नेता जय प्रकाश मजूमदार और शिशिर बजोरिया ने राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) आरिज आफताब से मुलाकात कर इसकी शिकायत की थी. उन्होंने तृणमूल कांग्रेस द्वारा आचार संहिता के कथित उल्लंघन पर उचित कार्रवाई की मांग भी की थी.

सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक वीडियो में दिखा है कि फिरदौस अहमद और बांग्ला कलाकार अंकुश व पायल ने रायगंज लोकसभा सीट से तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार कन्हैयालाल अग्रवाल के समर्थन में रोड शो किया. इसके बाद केंद्र ने मंगलवार को ‘लीव इंडिया’ नोटिस जारी किया और फिरदौस को दिया गया बिजनेस वीजा रद्द कर दिया. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने उनका नाम ‘काली सूची’ में भी डाल दिया है. इससे भविष्य में भारत की उनकी यात्रा में बाधा आएगी.

केंद्रीय गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने दिल्ली में कहा, ‘‘बांग्लादेशी नागरिक फिरदौस अहमद द्वारा वीजा उल्लंघन के संबंध में ब्यूरो ऑफ इमिग्रेशन से एक रिपोर्ट मिलने के बाद गृह मंत्रालय ने उनका बिजनेस वीजा रद्द कर दिया है और उन्हें लीव इंडिया नोटिस जारी किया है. उन्हें काली सूची में डाल दिया गया है. एफआरआरओ कोलकाता को इन आदेशों की तामील करने को कहा गया है.’