जम्मू-कश्मीर में चुनाव की ड्यूटी पर लगे एक सब-डिविजनल मजिस्ट्रेट (एसडीएम) को कथित रूप से सेना के जवानों द्वारा पीटे जाने का मामला सामने आया है. घटना मंगलवार को राज्य के अनंतनाग जिले में नेशनल हाइवे वाले श्रीनगर-काजीकुंड मार्ग पर हुई. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक जिले के दोरू इलाके के एसडीएम गुलाम रसूल वानी को जवानों ने पहले सड़क पर घसीटा और फिर पिटाई की.

अखबार के मुताबिक वानी लोकसभा चुनाव में दक्षिण कश्मीर में सहायक निर्वाचन अधिकारी (एआरओ) के रूप में भी काम कर रहे हैं. घटना को लेकर उन्होंने कहा, ‘मैं चुनाव की ड्यूटी पर था और वेसू की तरफ जा रहा था. वहां जिला मजिस्ट्रेट इंतजार कर रहे थे. उन्होंने (सेना) हाइवे पर ट्रैफिक जाम किया हुआ था. जब उन्होंने मेरी गाड़ी पर एसडीएम का साइन देखा तो हमें जाने दिया गया. हमने तीन चेकपॉइंट पार कर लिए थे. लेकिन चौथे पर एक सैनिक ने हमें रुकने को कहा. हमने गाड़ी रोकी. अचानक सेना के कुछ जवान आए और हमारे वाहन को निशाना बनाया. पहले उन्होंने मेरे ड्राइवर को पीटा और बाद हमें भी.’

पीड़ित एसडीएम के मुताबिक घटना के समय उनके साथ चार अन्य स्टाफ सदस्य भी थे. उन्होंने कहा, ‘वे मेरा गिरेबां खींच कर मुझे सड़क पर ले गए और कोई 20 मीटर घसीटा. उन्होंने अपनी बंदूकें मुझ पर तान दीं और मेरा सेलफोन छीन कर तोड़ दिया. मेरे ड्राइवर का फोन भी तोड़ दिया. बाकी स्टाफ सदस्यों को भी उन्होंने बंदूक दिखा कर बाहर निकलने को कहा. उन्होंने गाड़ी में रखी चुनाव से जुड़ी सामग्री को नुकसान पहुंचाया.’ गुलाम रसूल वानी ने कहा कि उन्होंने इस घटना की शिकायत कुलगाम के पुलिस उपायुक्त और एसएसपी से की है. उन्होंने मांग की है कि इस बारे में एफआईआर दर्ज हो.

खबर के मुताबिक काजीकुंड के स्टेशन हाउस अधिकारी के यहां दर्ज कराई अपनी शिकायत में एसडीएम ने कहा है कि घटना वाले दिन नेशनल हाइवे पर जाम लगा दिया गया, जबकि उस दिन सेना के काफिलों के लिए उस रास्ते को (आम लोगों के लिए) बंद नहीं किया गया था. शिकायत में वानी ने कहा, ‘हमें बंदूक दिखा कर आधे घंटे तक बंदी बना कर रखा गया. हमारी गाड़ी व अन्य चीजों की तलाशी ली गई गई, उन्हें छीना गया और नुकसान पहुंचाया गया. चुनाव से जुड़ा सारा डेटा भी हटा दिया गया या उसे नुकसान पहुंचाया गया. अनंतनाग के उपायुक्त के हस्तक्षेप के बाद ही हम सबको छोड़ा गया.’

उधर, जब इस घटना को लेकर श्रीनगर स्थित सेना के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि अभी इस घटना से जुड़ी जानकारियों का पता लगाया जा रहा है. वहीं, कुलगाम के एसपी गुरिंदरपाल सिंह ने मामला दर्ज होने की पुष्टि की है.