महाराष्ट्र के मालेगांव में हुए बम धमाके की आरोपित प्रज्ञा सिंह ठाकुर बुधवार को औपचारिक तौर पर भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गईं. इसके साथ ही पार्टी ने प्रज्ञा सिंह ठाकुर को भोपाल से उम्मीदवार घोषित कर दिया है. यहां से कांग्रेस ने मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को प्रत्याशी बनाया है, जिन्हें प्रज्ञा खुले तौर पर ‘हिंदूविरोधी’ कहती हैं. भोपाल में प्रदेश भाजपा के दफ़्तर में मीडिया से बातचीत में प्रज्ञा ने कहा, ‘मैं चुनाव लड़ूंगी और जीतूंगी भी. यह मेरे लिए मुश्किल काम नहीं है.’ बताया जाता है कि पार्टी महासचिव रामलाल और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान से भी प्रज्ञा की मुलाकात हुई है.

भोपाल से भाजपा के मौज़ूदा सांसद आलोक संजर ने भी प्रज्ञा ठाकुर का समर्थन किया है. उन्होंने मीडिया से कहा, ‘पूरी पार्टी उनका (प्रज्ञा का) समर्थन करेगी. उनके ऊपर कोई आरोप सिद्ध नहीं हुआ है. बल्कि एक महिला होने के बावज़ूद उनका उत्पीड़न हुआ है. अब इसका बदला लेने का समय है.’

ग़ौरतरलब है कि दिग्विजय सिंह कांग्रेस के उन चुनिंदा नेताओं में शामिल हैं, जो ‘हिंदू आतंकवाद’ या ‘भगवा आतंकवाद’ शब्द का बहुतायत इस्तेमाल करते रहे हैं. यही नहीं वे मालेगांव धमाके के लिए साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर और उनके साथियों पर भी सीधे हमले करते रहे हैं.