भारतीय क्रिकेट टीम के प्रमुख कोच रवि शास्त्री ने कहा है कि विश्व कप प्रतियोगिता के लिए वे 15 खिलाड़ियों की अनिवार्य सूची के बजाय 16 खिलाड़ियों का दल चाहते थे. उन्होंने यह बात संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में एक खेल वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में कही. इस मौके पर रवि शास्त्री ने यह भी कहा, ‘मैं चयन के मामलों में शामिल नहीं होना चाहता. अगर हमारी अपनी कोई राय होती है तो हम उसे कप्तान को बताते हैं.’

इसके साथ ही विश्व कप के लिए नहीं चुने जा पाने वाले खिलाड़ियों को संदेश देते हुए उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें निराश होने की जरूरत नहीं है. उनके मुताबिक, ‘15 खिलाड़ियों की सूची में जगह नहीं बना पाने वाले खिलाड़ियों को कभी भी मौका मिल सकता है. क्रिकेट काफी अजीब खेल है. इसमें चोटें लग सकती हैं. ऐसे में आपको पता नहीं कि आपके लिए कब बुलावा आ जाए.’

इस मौके पर रवि शास्त्री ने चौथे क्रम पर बल्लेबाजी के लिए विजय शंकर के चयन पर भी प्रतिक्रिया दी. उन्होंने कहा कि यह स्थान बेहद लचीलापन लिए हुए होता है. इस क्रम की भूमिका परिस्थितियों और प्रतिद्वंद्वियों को देखते हुए बढ़ जाती है. उन्होंने आगे कहा, ‘शीर्ष तीन बल्लेबाजों के प्रदर्शन को देखते हुए आप इस क्रम पर बहुत लचीले हो सकते हैं.

इस क्रम पर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के चयनकर्ताओं ने विजय शंकर को चुना है. हालांकि पिछले कुछ समय से इस स्थान पर अंबाती रायुडू बल्लेबाजी कर रहे थे. उनके प्रदर्शन को देखते हुए उन्हें विश्व कप के संभावित खिलाड़ियों के प्रबल दावेदार के तौर पर भी देखा जा रहा था. लेकिन इसी सोमवार विश्व कप के लिए घोषित भारतीय टीम में उन्हें शामिल नहीं किया गया था. हालांकि बीते दिनों भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने भी रायुडू को इस क्रम के बल्लेबाजों की दौड़ में सबसे आगे बताया था.

वहीं विश्व कप के खिलाड़ियों की सूची में अंबाती रायुडू के शामिल नहीं होने पर भारत के कई पूर्व दिग्गज खिलाड़ियों ने हैरानगी भी जताई है. इंग्लैंड के मौसम और विजय शंकर के अनुभव की कमी को देखते हुए कई खिलाड़ियों ने रायुडू को चुने जाने के पक्ष में अपनी राय दी थी.

इधर, विश्व कप के प्रबल दावेदारों को लेकर पूछे गए सवाल पर रवि शास्त्री ने इंग्लैंड को अपनी पसंदीदा टीम बताया. उन्होंने कहा बीते दो सालों में इस टीम के खिलाड़ियों में निरंतरता देखने को मिली है. इस टीम में बहु आयामी खिलाड़ी हैं साथ ही उनकी गेंदबाजी व बल्लेबाजी में भी गहराई है. इसके अलावा उन्हें अपने ही घर में खेलने का लाभ भी मिलेगा.