कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कन्नड़ फिल्मों के कुछ सितारों से नाराज़गी जताई है क्योंकि उन लोगों ने एक अन्य फिल्म सितारा सुमलता अंबरीष के समर्थन में प्रचार किया. उन्होंने कहा, ‘मेरे जैसे फिल्म निर्माताओं ने जब फिल्मों में पैसा लगाया तब यश (कन्नड़ सुपरस्टार) जैसे सितारे चमके. लेकिन असल जीवन फिल्मी ज़िंदगी से अलग होता है.’

एचडी कुमारस्वामी ने कहा, ‘अगर मेरे जैसे फिल्म निर्माता पैसे न लगाते तो यश और दर्शन जैसे सितारों का अस्तित्व भी न बचता.’ बताते चलें कि कुमारस्वामी राजनीति में आने से पहले कन्नड़ फिल्मों के निर्माता रहे हैं. साथ में यह भी कि सुमलता अंबरीष जिस मांड्या लोक सभा सीट से चुनाव लड़ रही हैं वहां से कुमारस्वामी के पुत्र निखिल गौड़ा अपनी पार्टी जेडीएस (जनता दल-सेकुलर) के उम्मीदवार हैं. इसीलिए यह सीट कुमारस्वामी की प्रतिष्ठा से जुड़ गई है.

तिस पर सुमलता अंबरीष का प्रचार करते हुए यश और दर्शन ने जेडीएस को ‘चोरों की पार्टी’ बता दिया था. जबकि यही यश अपने शुरूआती करियर में कुमारस्वामी निर्मित ‘लकी’ जैसी फिल्मों में काम कर चुके हैं. हालांकि अपने बयान के बाबत यश का कहना है, ‘मैंने किसी को चोर नहीं कहा. किसी दल को भी चोरों की पार्टी नहीं कहा. अगर कोई साबित कर दे कि मैंने ऐसा कोई बयान दिया है तो मैं उसके सामने सर झुकाने का तैयार हूं.’