भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक व्यक्ति द्वारा जूता फेंके जाने का मामला सामने आया है. खबरों के मुता​बिक यह घटना दिल्ली स्थित भाजपा मुख्यालय में हुई. उस वक्त पार्टी प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा राव मध्य प्रदेश की भोपाल संसदीय सीट से भाजपा प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को लेकर पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे. हालांकि उस शख्स द्वारा फेंके गए जूते से जीवीएल नरसिम्हा राव बाल-बाल बच गए. साथ ही इस घटना के बाद भी उन्होंने अपनी कॉन्फ्रेंस जारी रखी. उन्होंने यह भी कहा कि जूता फेंकने वाले ने कांग्रेस की ‘मानसिकता’ दिखलाई है.

उधर, इस घटना के फौरन बाद भाजपा कार्यकर्ता और सुरक्षा गार्ड जूता फेंकने वाले व्यक्ति को कॉन्फरेंस हॉल से बाहर ले गए. वहां से दिल्ली पुलिस ने पूछताछ के लिए उसे हिरासत में ले लिया. इस दौरान मामले के आरोपित की पहचान उत्तर प्रदेश के कानपुर के रहने वाले डॉक्टर शक्ति भार्गव के तौर पर हुई है. बताया जाता है कि वह साध्वी प्रज्ञा को टिकट दिए जाने से नाराज था. उसका यह भी मानना है कि सरकार ने भ्रष्टाचार को लेकर कोई आवाज नहीं उठाई है. इस संबंध में उसने बीते दिनों फेसबुक पर कुछ पोस्ट भी लिखी थीं. बताया यह भी जा रहा है कि आरोपित का अपनी पत्नी और मां के साथ विवाद चल रहा है जिसकी वजह से वह बीते काफी समय से मानसिक तौर पर परेशान है.

वैसे किसी नेता पर किसी कार्यक्रम या प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान जूता फेंके जाने की यह कोई पहली घटना नहीं है. इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम पर भी एक पत्रकार ने जूता फेंका था. इसके अलावा अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश भी ऐसी ही एक घटना का सामना कर चुके हैं.