कांग्रेस के नेता रहे एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी की मौत ‘प्राकृतिक’ कारणों से नहीं हुई थी. खबरों के मुताबिक यह खुलासा उनकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट से हुआ है. इस रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि उनकी मौत तकिये या फिर किसी अन्य चीज की वजह से उनका मुंह दबाए जाने से हुई थी. पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर दिल्ली पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया है. साथ ही इस मामले की जांच अपराध शाखा को सौंप दी है.

मामला दर्ज होने के बाद शुक्रवार को ही पुलिस अधिकारी मृतक के दिल्ली में डिफेंस कॉलोनी स्थित आवास पहुंचे. वहां उन्होंने उनके परिवार के लोगों के अलावा घर के नौकरों से भी पूछताछ की. इस मौके पर पुलिस के साथ फॉरेंसिक टीम के लोग भी मौजूद थे. उन्होंने भी घटनास्थल का मुआयना किया है.

घटना वाले दिन रोहित शेखर तिवारी की मां उज्ज्वला साकेत के मैक्स अस्पताल गई हुई थीं. तब घर के नौकरों ने उन्हें फोन करके रोहित की नाक से खून निकलने और उनका शरीर ठंडा पड़ने की जानकारी दी थी. उस वक्त रोहित की पत्नी अपूर्वा और उनका चचेरा भाई सिद्धार्थ भी घर पर ही मौजूद थे. उधर, उस फोन के बाद उज्ज्वला एंबुलेंस लेकर घर पहुंची थी और वहां से उन्हें अस्पताल लेकर गई ​थी. रोहित की जांच करने के बाद डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था.

उस वक्त डॉक्टरों ने उनके शरीर पर किसी तरह की चोट के निशान नहीं पाए थे. तब ऐसी संभावना जताई गई थी कि उनकी मौत हार्ट अटैक या फिर ब्रेन हैमरेज की वजह से हुई होगी. हालांकि पुलिस ने उस वक्त भी कहा था कि मौत के सही कारणों का पता पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही चल सकेगा.