‘कांग्रेस आजादी के बाद से ही देश से गरीबी मिटा रही है लेकिन आज तक गरीबी मिट नहीं पाई.’  

— राजनाथ सिंह, केंद्रीय गृह मंत्री

राजनाथ सिंह ने यह बात ओडिशा के न्यायगढ़ में एक रैली को संबोधित करने के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘इंदिरा गांधी ने गरीबी हटाओ का नारा दिया. राजीव गांधी ने भी गरीबी हटाने की बात की और अब राहुल गांधी न्यूनतम आय गारंटी योजना (न्याय) से गरीबी मिटाने की बात कर रहे हैं.’ राजनाथ सिंह ने आगे कहा, ‘इतने दशकों में भी गरीबी क्यों नहीं मिटी, राहुल गांधी को इसका उत्तर देना चाहिए.’ उनका यह भी कहना था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गरीबी मिटाने की दिशा में व्यापक स्तर पर काम कर रहे हैं.

‘नरेंद्र मोदी के लिए सबसे बड़ी चुनौती खुद नरेंद्र मोदी है.’  

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

नरेंद्र मोदी ने यह बात एक इंटरव्यू के दौरान पूछे गए सवाल के जवाब में कही. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘मैंने हमेशा नरेंद्र मोदी से पूछा है कि अरे इतना करके क्यों अटक गए तुम. तुम तो और ज्यादा करने के लिए आए हो. तुम्हें तो और आगे जाना है. उन्होंने आगे कहा, ‘मैं खुद को इस बात के लिए भी चुनौती दे रहा हूं कि आने वाले पांच सालों में पहले से और ज्यादा गति से कैसे दौड़ूं. पहले से भी ज्यादा अलग काम कैसे करूं.’


‘केंद्र सरकार जांच एजेंसियों का इस्तेमाल विपक्षी दलों की आवाज दबाने के लिए कर रही है.’  

— मायावती, बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख

मायावती ने यह बात उत्तर प्रदेश में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कही. इस मौके पर उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर 2014 के दौरान किए वादों में से एक चौथाई वादे भी पूरा नहीं कर पाने का आरोप लगाया. मायावती ने आगे कहा, ‘नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली भाजपा सरकार ने जातिवाद और हिंसा की राजनीति की है. लोकसभा के इस चुनाव देश की जनता नरेंद्र मोदी को सत्ता से बेदखल करेगी.’


‘राहुल गांधी साफ करें कि वह भाजपा से लड़ना चाहते हैं या वाम दलों से.’  

— सीताराम येचुरी, मार्क्सवादी कम्यूनिस्ट पार्टी के महासचिव

सीताराम येचुरी का यह बयान राहुल गांधी के केरल की वायनाड सीट से भी लोकसभा का चुनाव लड़ने को लेकर आया है. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘केरल की सभी 20 सीटों पर कांग्रेस की अगुवाई वाले यूडीएफ और वाम दल की अगुवाई वाले एलडीएफ के बीच मुकाबला है. इन सीटों पर फिर उम्मीदवार चाहे जो कोई भी हो.’ सीताराम येचुरी ने सवालिया लहजे में यह भी कहा, ‘अपनी मां और दादी से अलग केरल में वाम दल के खिलाफ चुनाव लड़कर राहुल गांधी क्या संदेश देना चाहते हैं. उन्हें अपनी इच्छा स्पष्ट करनी चाहिए.’


‘हेमंत करकरे पर दिए बयान से दुश्मनों को खुशी हो रही है इसलिए मैं अपने शब्द वापस लेती हूं.’  

— प्रज्ञा ठाकुर, भारतीय जनता पार्टी की नेता

प्रज्ञा ठाकुर का यह बयान महाराष्ट्र पुलिस के एटीएस प्रमुख रहे हेमंत करकरे पर दिए एक बयान पर हुई अपनी निंदा के बाद आया है. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘मैं खुद भी हेमंत करकरे को शहीद मानती हूं क्योंकि उनकी मौत आतंकवादियों की गोली से हुई थी.’ इससे पहले इसी गुरुवार को उन्होंने करकरे को ‘देशद्रोही और धर्मद्रोही’ बताया था. साथ ही यह भी कहा था कि उन्होंने करकरे को उनके सर्वनाश के लिए श्राप दिया था जिसकी वजह से सवा महीने बाद उनकी मौत हो गई थी.