समाजवादी पार्टी (सपा) के संरक्षक मुलायम सिंह यादव और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती 24 साल के बाद शुक्रवार को एक मंच पर दिखे. ये दोनों उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में ‘महागठबंधन’ की एक चुनावी रैली में शामिल हुए थे. इस खबर को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. मुलायम सिंह यादव ने इस रैली में शामिल होने के लिए मायावती का आभार जताया. उन्होंने कहा, ‘यह मेरा आखिरी चुनाव है. मैनपुरी की जनता हमेशा मुझे जिताती रही है. मुझे इस बार भी जिता देना. लेकिन इस बार की जीत का अंतर पिछले चुनावों के मुकाबले ज्यादा होना चाहिए.’ वहीं, मायावती ने कहा, ‘मुलायम जी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह नकली पिछड़े नहीं है. मोदी ने खुद को पिछड़ा बताकर फायदा उठाया है और पिछड़े वर्ग का हक मारा है.’

तिहाड़ जेल में कैदी की पीठ पर ‘ओम’ का प्रतीक दागा गया

नई दिल्ली स्थित तिहाड़ जेल में एक कैदी से मारपीट, पीठ पर ‘ओम’ प्रतीक दागने और दो दिन तक जबरन व्रत रखवाने का मामला सामने आया है. अमर उजाला के पहले पन्ने पर प्रकाशित खबर के मुताबिक इस बात का खुलासा उस वक्त हुआ जब कैदी साबिर ने निचली अदालत में अपनी पीठ ड्यूटी मजिस्ट्रेट को दिखाई. बताया जाता है कि गुरुवार को मजिस्ट्रेट ने इस घटना को लेकर तिहाड़ जेल प्रशासन से 24 घंटे के भीतर रिपोर्ट और सीसीटीवी फुटेज तलब की थी. हालांकि, शुक्रवार को रिपोर्ट पेश नहीं की गई. इसके बाद अदालत ने जेल प्रशासन को इस मामले की उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए हैं. अदालत ने इस मामले की अगली सुनवाई की तारीख 22 अप्रैल तय की है.

योगी आदित्यनाथ ने सपा उम्मीदवार को ‘बाबर की औलाद’ बताया

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनके प्रचार पर लगी 72 घंटे की रोक खत्म होने के बाद एक बार फिर विवादास्पद बयान दिया है. द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक शुक्रवार को उन्होंने संभल की एक जनसभा में समाजवादी पार्टी (सपा) उम्मीदवार को ‘बाबर की औलाद’ बता दिया. आदित्यनाथ ने कहा, ‘समाजवादी पार्टी में ऐसे-ऐसे प्रत्याशी बना दिए जाते हैं. एक बार संसद में बैठा था. संयोग से संभल के प्रत्याशी, वही सपा के वर्तमान प्रत्याशी हैं. मैंने उनसे पूछा तुम्हारे पूर्वज कहां से हैं, ये सज्जन बोल पड़े हम बाबर की औलाद हैं.’ सपा ने संभल संसदीय क्षेत्र से शफीक-उर रहमान को अपना उम्मीदवार घोषित किया है.

न्याय योजना पर कांग्रेस और चुनाव आयोग को नोटिस

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने न्याय योजना के तहत 72,000 रुपये सालाना देने के चुनावी वादे पर कांग्रेस और चुनाव आयोग को नोटिस जारी किया है. नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक अदालत ने पूछा है कि इस तरह की घोषणा मतदाताओं को रिश्वत देने की कैटेगरी में क्यों नहीं आती? साथ ही, क्यों न कांग्रेस पार्टी के खिलाफ पाबंदी या दूसरी कोई कार्रवाई की जाए? वहीं, चुनाव आयोग ने भी इस योजना से संबंधित एक बैनर को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को नोटिस जारी किया है. खबरों के मुताबिक उत्तर प्रदेश में राहुल गांधी के चुनाव क्षेत्र अमेठी में एक व्यक्ति के घर की दीवार पर बिना इजाजत लिए यह बैनर लगा दिया गया था. संबंधित व्यक्ति ने इसकी शिकायत चुनाव आयोग से कर दी थी.

पश्चिम बंगाल में 90 फीसदी पोलिंग बूथों पर केंद्रीय बल तैनात करने का फैसला

बीती 18 अप्रैल को दूसरे चरण के मतदान के दौरान पश्चिम बंगाल के पोलिंग बूथों पर चुनावी धांधली की घटनाओं पर संज्ञान लेते हुए चुनाव आयोग ने केंद्रीय सुरक्षा बलों को बढ़ाने का फैसला किया है. द हिंदू की खबर के मुताबिक उसने राज्य में बाकी बचे पांच चरणों के तहत मतदान के लिए 90 फीसदी बूथों पर इन बलों को तैनात करने का एलान किया है. शुक्रवार को इसकी जानकारी राज्य में नियुक्त विशेष पर्यवेक्षक अजय नायक ने दी. उन्होंने बताया कि चुनाव आयोग ने केंद्र सरकार से इसके लिए केंद्रीय बलों की अतिरिक्त 50 कंपनियों की मांग की है.

विदेश मंत्री ने भारतीयों से लीबियाई राजधानी त्रिपोली तत्काल छोड़ने के लिए कहा

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने शुक्रवार को अफ्रीकी देश लीबिया की राजधानी त्रिपोली में फंसे 500 से अधिक भारतीयों से तत्काल शहर छोड़ने की अपील की है. हिन्दुस्तान में छपी खबर के मुताबिक उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘लीबिया से बड़ी संख्या में लोगों के जाने और यात्रा प्रतिबंध के बाद भी त्रिपोली में 500 से अधिक भारतीय है. त्रिपोली में हालात तेजी से बिगड़ रहे हैं. कृपया अपने रिश्तेदारों और दोस्तों को तुरंत त्रिपोली छोड़ने के लिए कहें. हम बाद में उन्हें वहां से नहीं निकाल पाएंगे.’ त्रिपोली को अपने कब्जे में लेने के लिए स्थानीय कमांडर खलीफा हफ्तार द्वारा छेड़े गए संघर्ष में अब तक 200 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं.