शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ नये सिरे से गठबंधन करने का बचाव किया है. पीटीआई के मुताबिक उनका कहना है कि उन्होंने ऐसा इसलिए किया कि उनकी पार्टी ऐसा प्रधानमंत्री चाहती है जिसके पास पाकिस्तान पर हमला करने की हिम्मत हो. उद्धव ठाकरे ने यह बात महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक चुनावी रैली में कही. भाजपा के साथ गठबंधन नहीं करने के अपने वादे से पलटने के बारे में उन्होंने कहा, ‘हम ऐसा प्रधानमंत्री चाहते थे जो पाकिस्तान में घुसकर उस पर हमला कर सके. हमने इसी कारण गठबंधन किया है. मैंने मराठवाड़ा और महाराष्ट्र के कल्याण के लिये भी भाजपा के साथ गठबंधन किया है.’

शिवसेना प्रमुख ने कहा कि कांग्रेस जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को समाप्त नहीं करना चाहती जबकि उनकी पार्टी चाहती है कि जम्मू-कश्मीर में भी वे सारे कानून लागू हों जो बाकी भारत में लागू होते हैं. उद्धव ठाकरे ने असदुद्दीन ओवैसी की आलोचना करते हुए कहा कि वे मुसलमानों को दुश्मन नहीं मानते हैं. उनका कहना था कि महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अब्दुल रहमान अंतुले के पुत्र नवीद अंतुले के साथ दो ही दिन पहले ही उन्होंने मंच साझा किया था.

औरंगबाद में रैली के दौरान बीड से राकांपा (एनसीपी) नेता और पूर्व मंत्री जयदत्त क्षीरसागर भी उद्वव ठाकरे के साथ मंच पर देखे गये. हालांकि इस बारे में कोई औपचारिक घोषणा नहीं हुई, लेकिन ठाकरे ने संकेत दिये कि क्षीरसागर शिवसेना में शामिल हो चुके हैं.