आम आदमी पार्टी (आप) के नेता मनीष सिसोदिया ने कहा है कि शुक्रवार को हरियाणा में चुनावी गठबंधन से इनकार करके कांग्रेस ने दिल्ली में भी किसी तरह के गठबंधन की संभावना को खत्म कर दिया है. खबरों के मुताबिक उन्होंने यह भी कहा है कि उनकी पार्टी सिर्फ दिल्ली में कांग्रेस के साथ गठबंधन के लिए तैयार नहीं है.

मनीष सिसोदिया ने कहा, ‘कांग्रेस ने हरियाणा में गठबंधन के लिए 6:3:1 का फार्मूला सुझाया था. इसके तहत वहां की छह सीटें उसने अपने पास रखी थीं. साथ ही तीन सीटें जननायक जनता पार्टी (जेजपी) और एक सीट आप को देने की बात कही थी. वहीं पंजाब में कांग्रेस हमें एक भी सीट देने को तैयार नहीं थी जबकि पंजाब में आप के चार सांसद और 20 विधायक हैं. दिल्ली में भी आप की पकड़ बेहद मजबूत है. यहां कांग्रेस हमारे आसपास भी नहीं ठहरती.’

इसके साथ ही मनीष सिसोदिया ने आगे कहा, ‘हमने कांग्रेस के साथ गठबंधन की पहल मोदी-शाह (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह) की जोड़ी को रोकने के लिए की थी. लेकिन कांग्रेस सीटों का गणित जोड़ने में लगी है. लगता है कि कांग्रेस का मकसद मोदी-शाह के खतरे से देश को बचाना नहीं है. अगर यह जोड़ी दोबारा केंद्र में वापसी करती है तो इसके लिए कांग्रेस जिम्मेदार होगी.’ मनीष सिसोदिया के मुताबिक आप ने अपनी तरफ से कांग्रेस के साथ चुनावी गठबंधन की तमाम कोशिशें कर ली हैं और अब कांग्रेस पर निर्भर करता है कि उसे क्या करना है.