अमेठी के रिटर्निंग ऑफिसर ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नामांकन की जांच 22 अप्रैल तक के लिए टालने के आदेश दिए हैं. उन्होंने यह फैसला अमेठी संसदीय सीट से ही एक निर्दलीय प्रत्याशी ध्रुव लाल की शिकायत के आधार पर किया है. ध्रुव लाल ने राहुल गांधी के नामांकन पत्र में असंगतियों का हवाला देते हुए उसे रद्द किए जाने की अपील की है.

खबरों के मुताबिक ध्रुव लाल के वकील रवि प्रकाश ने इस शिकायत को लेकर जानकारी दी है, ‘राहुल गांधी ब्रिटेन की एक कंपनी से जुड़े हुए हैं और उस कंपनी को दी गई जानकारी में उन्होंने खुद को ब्रिटेन का नागरिक बताया है. अगर राहुल गांधी ब्रिटेन के नागरिक हैं तो जन प्रतिनिधित्व अधिनियम के तहत वे भारत में चुनाव नहीं लड़ सकते.’

रवि प्रकाश ने आगे कहा, ‘हम जानना चाहते हैं कि उन्होंने किस आधार पर खुद को ब्रिटेन का नागरिक बताया है. साथ ही ब्रिटेन का नागरिक होने के बाद क्या भारत की नागरिकता रखने का अधिकार भी उनके पास है?’ रवि प्रकाश का यह भी कहना है कि कांग्रेस अध्यक्ष ने नामांकन के साथ दाखिल हलफनामे में साल 2003 से 2009 तक के बीच की ब्रिटेन में अपनी संपत्तियों को लेकर कोई जानकारी नहीं दी है.

रवि प्रकाश के मुताबिक, ‘राहुल गांधी की तरफ से बताई गई शैक्षणिक योग्यता भी उनकी तरफ से दिए दस्तावेजों के साथ मेल नहीं खाती क्योंकि कुछ दस्तावेजों में उनका नाम ‘राउल विंसी’ बताया गया है. ऐसे में हम यह जानना चाहते हैं कि क्या राउल विंसी और राहुल गांधी एक ही व्यक्ति हैं? अगर ये दोनों व्यक्ति अलग हैं तो ऐसे में हमारी मांग है कि कांग्रेस अध्यक्ष अपनी शैक्षणिक योग्यता के मूल दस्तावेज प्रस्तुत करें जिससे कि उनका सत्यापन किया जा सके.’

अमेठी संसदीय सीट को कांग्रेस के गढ़ के तौर पर देखा जाता है. पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी सहित कांग्रेस के कई अन्य दिग्गज नेता इस सीट से चुनाव लड़ते हुए जीत दर्ज कर चुके हैं. बीते कई वर्षों से राहुल गांधी इस सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. मौजूदा समय में भी वे इसी सीट से सांसद हैं. लोकसभा के इस चुनाव में इस सीट पर छह मई को वोट डाले जाएंगे. भाजपा ने राहुल गांधी के मुकाबले में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को अपना प्रत्याशी बनाया है.