अमेरिका सहित दुनिया के कई देशों की राजनीति में भारतीय मूल के लोगों को चुना जाता रहा है और इस कड़ी में अब जापान का नाम भी शामिल हो गया है. हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक जापान में पहली बार भारतीय मूल के एक व्यक्ति योगेंद्र पुराणिक ने स्थानीय निकाय के चुनाव में जीत दर्ज की है. योगेंद्र पुराणिक को यह जीत टोक्यो नगरपालिका के चुनाव में मिली है. वे यहां के इदोगावा-कू वॉर्ड से चुनाव जीते हैं. योगेंद्र इस इलाके में ‘योगी’ के नाम से लोकप्रिय हैं.

जापान की राजधानी टोक्यो में 23 वॉर्ड हैं जहां कुल 58 उम्मीदवार चुनावी मैदान में थे. ताजा चुनाव में कुल 44 उम्मीदवार चुने गए हैं और योगेंद्र भी उनमें से एक हैं. इदोगावा ऐसा इलाका है जहां पर भारतीय सबसे अधिक संख्या में रहते हैं. यहां भारतीयों की आबादी करीब 4,300 है जबकि जापान में रहने वाले कुल भारतीयों की तादाद करीब 34 हजार है.

योगेंद्र का जन्म महाराष्ट्र के पुणे में हुआ था और उनकी शुरुआती शिक्षा भी यहीं हुई है. पीटीआई के मुताबिक वे पहली बार 1997 में जापान आये थे और तब वे विश्वविद्यालय के छात्र थे. दो साल की पढ़ाई के बाद वे 2001 में फिर जापान लौटे और यहां बतौर इंजीनियर काम करने लगे. बाद में उन्होंने बैंकों और दूसरी कंपनियों में भी काम किया. योगेंद्र इदोगावा वार्ड में 2005 से रह रहे हैं और यहीं रहते हुए उन्होंने जापान की नागरिकता हासिल की थी और फिर राजनीति से जुड़ गए. चुनाव जीतने के बाद उन्होंने कहा है, ‘मैं जापान के लोगों और विदेशियों के बीच पुल का काम करना चाहता हूं.’