बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की प्रमुख मायावती ने आरक्षण के मुद्दे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है. एक ट्वीट के जरिये उन्होंने कहा है, ‘प्रधानमंत्री मोदी द्वारा आरक्षण पर भी देश को गुमराह करने का प्रयास जारी है कि इसे खत्म नहीं किया जाएगा. लेकिन वास्तव में यह इनकी एक और जुमलेबाजी है. क्योंकि कांग्रेस की तरह इनके शासनकाल में भी अनुसूचित जाति (एससी) अनुसूचित जनजाति (एसटी) और अन्य पिछड़े वर्ग (ओबीसी) के आरक्षण की व्यवस्था को पूरी तरह से निष्क्रिय व निष्प्रभावी बना दिया गया है.’ इसी ट्वीट से मायावती ने इसकी वजह भी पूछी है.

इसके साथ ही एक अन्य ट्वीट में मायावती ने सवालिया लहजे में लिखा है, ‘दलितों, आदिवासियों और ओबीसी वर्गों के लिए सरकारी नौकरियों में आरक्षित पदों को नहीं भरकर इन उपेक्षित वर्गों के लोगों को हक मारने का काम क्यों भाजपा की केंद्र व राज्य सरकारों द्वारा लगातार किया जा रहा है.’ उनका यह भी कहना है, ‘भाजपा व नरेंद्र मोदी को इसका जवाब देना चाहिए.’

इधर, बुधवार को ही बसपा प्रमुख ने यह बातें उत्तर प्रदेश के अकबरपुर में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए भी उठाईं. इसके साथ ही नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार की आलोचना करते हुए उन्होंने यह भी कहा कि इसके ‘चौकीदारों’ का नाटक अब और नहीं चलेगा. साथ ही बहुजन समाज और पिछड़ा वर्ग अब इनके बहकावे में भी आने वाला नहीं है. इस मौके पर मायावती ने मोदी के शासन में देश की सीमाओं को भी असुरक्षित बताया. साथ ही यह भी कहा कि भाजपा के नेता लोकसभा के इस चनुाव में जवानों की शहादत भुनाने की कोशिश कर रहे हैं.