प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर तीखा हमला करते हुए उन्हें ‘गुंडों के लिए नर्म तो आम जनता के लिए कठोर’ बताया है. पश्चिम बंगाल के रानाघाट में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘इस राज्य के लोगों ने दीदी (ममता बनर्जी) को मान दिया. सम्मान दिया. लेकिन दीदी ने उन्हें धोखा दिया. लोगों के खून से पश्चिम बंगाल की धरती को आज रंगा जा रहा है.’ उन्होंने आगे कहा कि आज मुझे सच्चाई बयान करनी पड़ रही है कि पश्चिम बंगाल में ‘गुंडो के लिए ममता और जन-गण के लिए निर्ममता है.’ इसके साथ ही सवालिया लहजे में नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा, ‘यह किस दौर में बंग भूमि को पहुंचा दिया गया है.’

प्रधानमंत्री के मुताबिक यहां के लोगों ने कम्यूनिस्ट शासन से तंग आकर ममता बनर्जी को शासन के लिए चुना था. लेकिन ममता बनर्जी के कार्यकाल में भी जनता को कम्यूनिस्टों के शासन में होने वाले अत्याचारों से मुक्ति नहीं मिली. इसके साथ ही उन्होंने ममता बनर्जी पर राज्य के लोगों को बांटने के आरोप भी लगाए.

नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा, ‘ममता बनर्जी की अगुवाई वाले तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने सोचा कि वह बम-बंदूक और हिंसा से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कार्यकर्ताओं को डरा देंगे. भाजपा कार्यकर्ता इससे डरकर भाग जाएंगे. लेकिन भाजपा के लोग इन चीजों से डरने वाले नहीं हैं. भाजपा अपने क्रांतिकारी विचारों के दमपर दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बनी है. इस मुकाम तक पहुंचने के लिए हमने अनेक बलिदान दिए हैं.’

रानाघाट के अलावा बुधवार को ही मोदी ने राज्य के बीरभूम में भी एक रैली संबोधित की. उस मौके पर उन्होंने कहा, ‘अगर ममता बनर्जी मुझसे कुछ नहीं सीखना चाहतीं तो उन्हें संयुक्त अरब अमितरात (यूएई) से सीख लेनी चाहिए. आज यह देश अपने यहां एक भव्य और विशाल मंदिर बना रहा है. वहीं दूसरी तरफ पश्चिम बंगाल में लोगों को दुर्गा पूजा, सरस्वती पूजा और राम नवमी जैसे उत्सव मनाने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है.’

उन्होंने यह भी कहा, ‘बीते दिनों जब यूएई के सुल्तान भारत आए थे तो उस दौरान मैंने उनसे भारत के हज कोटे और हमारे देश के 800 कैदियों को रिहा करने की अपील की थी. मुझे आप सबको यह बताते हुए खुशी महसूस हो रही है कि वहां के सुल्तान ने हमारी दोनों बातें मान ली थीं.’

इधर, अपने राजनीतिक द्वंद्व से इतर नरेंद्र मोदी ने फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार को​ दिए एक इंटरव्यू में ममता बनर्जी को लेकर एक दिलचस्प खुलासा भी किया है. उनका कहना है कि ममता बनर्जी उन्हें हर साल अपनी पसंद के कुछ कुर्ते उपहार स्वरूप भेजती हैं. उनका यह भी कहना था कि जब ‘ममता दीदी’ को पता चला कि बांग्लादेश की नेता शेख हसीना उन्हें मिठाइयां भेजती हैं तो उसके बाद उन्होंने भी उन्हें अलग-अलग मौकों पर मिठाइयां भिजवाना भी शुरू कर दिया.