लोक सभा चुनाव के तीसरे चरण में 23 अप्रैल को देश भर में 67.87 फ़ीसदी मतदान होने की ख़बर है. हालांकि यह आंकड़ा शुरूआती दो चरणों में हुए मतदान से कुछ कम रहा है.

ख़बरों के मुताबिक लोक सभा चुनाव के पहले और दूसरे चरण में क्रमश: 69.50 और 69.44 प्रतिशत मतदान हुआ था. लेकिन तीसरे चरण में यह आंकड़ा 67.87 फ़ीसद पर ही टिक गया. इस चरण में 13 राज्यों की सबसे ज़्यादा 116 सीटों पर वोट डाले गए थे. ख़बरों की मानें तो तीसरे चरण में सबसे ज़्यादा 84.48 प्रतिशत मतदान असम में हुआ है. जबकि इसके बाद त्रिपुरा में 82.26 फ़ीसदी और फिर पश्चिम बंगाल में 81.77 फ़ीसद मतदान हुआ है.

वहीं कर्नाटक में इस बार दो चरणों में 18 और 23 अप्रैल को हुए मतदान ने राज्य का पिछला रिकॉर्ड तोड़ दिया है. राज्य में मतदान का आंकड़ा इस बार 69 फ़ीसदी के क़रीब रहा है जो अब तक का सर्वाधिक बताया जाता है. यहां सबसे ज़्यादा 67.6 प्रतिशत मतदान 1999 में हुआ था. जबकि 2014 में यह आंकड़ा 67.2 फ़ीसद पर ठहर गया था. हालांकि इस बार ये सभी आंकड़े पीछे रह गए हैं.

जहां तक चुनाव क्षेत्रों का सवाल है तो मांड्या में इस बार 80 फ़ीसदी से अधिक मतदान हुआ है. बताया जाता है कि 1951 के बाद से अब तक राज्य के किसी चुनाव क्षेत्र में 78 फ़ीसद से ज़्यादा मतदान नहीं हुआ. मगर इस बार मांड्या में सारे रिकॉर्ड टूट गए. यहां से राज्य के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के पुत्र निखिल सत्ताधारी जेडीएस (जनता दल- सेकुलर)-कांग्रेस के प्रत्याशी हैं. जबकि भाजपा ने निर्दलीय सुमलता अंबरीष को समर्थन दिया है. सुमलता अंबरीष कन्नड़ फिल्माें के लोकप्रिय अभिनेता दिवंगत अंबरीष की पत्नी हैं.