भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह ने वायु सेना की एयर स्ट्राइक के कथित तौर पर सबूत मांगने को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा है कि एयर स्ट्राइक को लेकर जब सारा देश खुशी से झूम रहा था तो उस वक्त दो जगहों पर मातम का माहौल था. उनमें से एक पाकिस्तान था तो दूसरा राहुल गांधी का कार्यालय. सवालिया लहजे में अमित शाह ने आगे कहा, ‘मुझे समझ नहीं आता कि आतंकवादी तो पाकिस्तान के मरे, लेकिन इनके चेहरे का नूर क्यों चला गया. क्यों भाई ये चचेरे-ममेरे भाई लगते हैं क्या आपके.’

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक अमित शाह ने ये बातें उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में एक चुनावी रैली संबोधित करते हुए कहीं. इस मौके पर उन्होंने यही सवाल बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की प्रमुख मायावती और समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से भी पूछा. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘हम भाजपा के लोग हैं. हम आतंकवादियों के साथ ‘ईलू-ईलू’ नहीं कर सकते क्योंकि भाजपा को देश की सुरक्षा के साथ समझौता स्वीकार नहीं है.’

इसके साथ ही अमित शाह ने नेशनल कॉन्फ्रेंस (एनसी) के नेता उमर अब्दुल्ला के देश में दो प्रधानमंत्री की व्यवस्था लागू कराने के बयान को लेकर भी राहुल गांधी को निशाने पर लिया. उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस और एनसी लोकसभा का यह चुनाव मिलकर लड़ रही हैं. इसलिए उमर अब्दुल्ला के बयान पर मैंने राहुल गांधी से उनका पक्ष पूछा था. आज इस बात को 14 दिन हो गए लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष का जवाब नहीं आया. वे खामोश हैं. क्योंकि उन्हें वोट बैंक की चिंता है. लेकिन भाजपा कश्मीर को भारत का अभिन्न हिस्सा मानती है. जब तक भाजपा का एक कार्यकर्ता भी देश में रहेगा कश्मीर को भारत से कोई अलग नहीं कर सकता.’