कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी ने कहा है कि उनकी पार्टी ने जिस ‘न्यूनतम आय गारंटी’ की परिकल्पना की है, वह जीएसटी और नोटबंदी जैसे कदम से प्रभावित देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लेकर आएगी. उन्होंने शुक्रवार को महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए यह बात कही. इसके अलावा उन्होंने आश्वस्त किया कि अगर उनकी पार्टी मौजूदा लोकसभा चुनाव के बाद सत्ता में आती है तो सरकारी नौकरियों में खाली पड़े 22 लाख पदों को एक साल के अंदर भर दिया जाएगा.

पीटीआई के मुताबिक राहुल ने कहा कि ‘न्याय’ योजना के तहत 72,000 रुपये सालाना (पांच साल में 3.60 लाख रुपये) देश के हरेक गरीब परिवार को दिए जाएंगे. वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए राहुल गांधी ने कहा कि 45 वर्ष में देश में बेरोजगारी दर ‘उच्चतम स्तर’ पर पहुंच गई है, जबकि सत्तारूढ़ भाजपा ने 2014 के चुनाव से पहले एक साल में दो करोड़ नौकरियां देने की बात कही थी. उन्होंने कहा कि 2019 का चुनाव ‘भाजपा की नफरत और कांग्रेस के प्रेम’ की विचारधारा के बीच की लड़ाई है.

कांग्रेस नेता ने नवंबर 2016 की नोटबंदी और जुलाई 2017 में जीएसटी लागू करने को लेकर भी प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा. राहुल ने कहा कि कांग्रेस अगर सत्ता में आई तो वह एक कानून लाएगी ताकि यह सुनिश्चित हो कि कर्ज नहीं चुकाने वाले किसान को जेल नहीं जाना पड़े. उन्होंने कहा, ‘नीरव मोदी, मेहुल चोकसी, विजय माल्या जैसे रईस फरार हैं, लेकिन महाराष्ट्र का अगर कोई किसान 20,000 रुपये का भी कर्ज लेता है और उसे चुकाने में असमर्थ रहता है तो उसे गिरफ्तार कर लिया जाता है. ये कैसा भारत है?’