कांग्रेस के नेता और बिहार की पटना साहिब संसदीय सीट के उम्मीदवार शत्रुघ्न सिन्हा ने ‘मोहम्मद अली जिन्ना को कांग्रेस परिवार का हिस्सा बताने’ वाले अपने बयान पर सफाई दी है. खबरों के मुताबिक उन्होंने कहा है, ‘मैं मौलाना आजाद का नाम लेना चाहता था लेकिन जुबान फिसल जाने से मोहम्मद अली जिन्ना का नाम बोल गया.’

इससे पहले इसी शुक्रवार को शत्रुघ्न सिन्हा ने मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में एक चुनावी रैली संबोधित की थी. उस दौरान उन्होंने कांग्रेस को महात्मा गांधी से लेकर सरदार पटेल और मोहम्मद अली जिन्ना से लेकर पंडित नेहरू को एक परिवार का बताया था. साथ ही यह भी कहा था कि कांग्रेस ऐसे नेताओं की पार्टी है जिनका भारत को आजादी दिलाने से लेकर देश के विकास में बड़ा योगदान रहा है. सिन्हा का यह भी कहना था, ‘इन्हीं चीजों को देखते हुए मैं कांग्रेस के साथ जुड़ा हूं.’

मोहम्मद अली जिन्ना को लेकर दिए इस बयान पर कई सवाल उठ रहे थे और कांग्रेस नेता को इसके लिए निशाना बनाया गया था. इधर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने शत्रुघ्न सिन्हा के उस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए उसे उनका ‘निजी विचार’ बताया था. साथ ही यह भी कहा था कि सिन्हा को अपनी कही बात ‘स्पष्ट’ करना चाहिए. पी चिदंबरम का यह भी कहना था, ‘मुझे कांग्रेस के हर सदस्य का बयान समझाने की जरूरत नहीं है. मैं सिर्फ पार्टी की आधिकारिक बातों पर ही बोल सकता हूं.’

गौरतलब है कि एक अरसे से नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार और उसकी नीतियों के मुखर आलोचक रहे शत्रुघ्न सिन्हा इसी महीने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए थे.