राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने केरल के कुछ युवाओं के इस्लामिक स्टेट (आईएस) के संपर्क में होने के संदेह में रविवार को यहां तीन जगहों पर छापेमारी की. सीरियल बम धमाकों के सदमे से गुजर रहे श्रीलंका ने कहा था कि इन आतंकी हमलों में शामिल आत्मघाती हमलावरों ने कुछ समय भारत में बिताया था. इसके बाद एनआईए की यह कार्रवाई देखने को मिली है.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक जांच एजेंसी ने कासरगोड में दो और पलक्कड़ में एक जगह पर छापेमारी की. उसे यहां तीन संदिग्धों के केरल के उन 20 युवाओं से जुड़े होने की सूचना मिली थी जो 2016 में अफगानिस्तान जाकर आईएस में शामिल हो गए थे. खबर के मुताबिक इनमें से कुछ पहले श्रीलंका जा चुके थे. एक सूत्र ने अखबार को बताया कि जांच एजेंसी ने आईएस की ऑनलाइन गतिविधियों की निगरानी के जरिये तीनों संदिग्धों तक पहुंचने में कामयाबी हासिल की है. वहीं, जांच एजेंसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस बारे में कहा, ‘हम उनसे पूछताछ कर यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि क्या वे कोई योजना बना रहे थे और क्या (आईएस में शामिल हुए) सभी युवा उनके संपर्क में हैं.’

खबर के मुताबिक छापेमारी को लेकर एनआईए ने दावा किया कि उसे मोबाइल फोन, सिम कार्ड, मेमोरी कार्ड, पेन ड्राइव जैसी कई डिजिटल डिवाइस मिली हैं. इसके अलावा मलयालम और अरबी में लिखी डायरियां, जाकिर नाइक के भाषणों वाली डीवीडी और कुछ बिना नाम वाली धार्मिक भाषणों से संबंधित डीवीडी व सीडी मिली हैं. कहा जा रहा है कि इन सभी को फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा जाएगा.