दिल्ली में एक बार फिर सफाईकर्मियों की मौत हुई है. मंगलवार को यहां रोहिणी स्थित प्रेमनगर में सेप्टिक टैंक की सफाई के दौरान पांच सफाईकर्मी जहरीली गैस की चपेट में आ गए. इनमें से दो की मौत हो गई और तीन गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती हैं.

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक जिस जगह यह घटना हुई, वहां के मालिक ने एक ठेकेदार के जरिये इन सफाईकर्मियों को सेप्टिक टैंक साफ करने के लिए बुलाया था. दोपहर तीन बजे के आसपास खबर आई कि उनमें से दो सफाईकर्मी टैंक में बेहोश हो गए हैं. उन्हें बचाने के लिए ठेकेदार ने उनके साथियों को बुलाया. उनमें से तीन और सफाईकर्मी बेहोश होकर गिर पड़े. उन्हें संजय गांधी अस्पताल ले जाया गया. लेकिन वहां तक पहुंचने से पहले ही गणेश साहा और दीपक नाम के दो सफाईकर्मियों ने दम तोड़ दिया.

खबर के मुताबिक शुरुआती जांच में हमेशा की तरह यह बात सामने आई है कि सफाईकर्मियों को बिना सुरक्षा उपकरणों के टैंक में उतारा गया था. वहीं, हिंदुस्तान टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि कर्मचारियों ने पहले टैंक की सफाई करने से इनकार कर दिया था. उनका कहना था कि वे इस काम के लिए प्रशिक्षित नहीं है. लेकिन ठेकेदार रामबीर और जगह के मालिक गुलाम मुस्तफा ने जबर्दस्ती उन्हें ऐसा करने पर मजबूर किया.