बीसीसीआई (भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड) पहली बार अपने सालाना सम्मेलन में राज्यों की महिला क्रिकेट टीमों की कप्तानों और उनके कोचों को भी बुलाने वाला है. यह सम्मेलन 17 मई को मुंबई में होने वाला है.

महिलाओं के खेल के विकास की जिम्मेदारी संभालने वाले बीसीसीआई महाप्रबंधक (क्रिकेट परिचालन) सबा करीम ने बुधवार को समाचार एजेंसी पीटीआई से बातचीत में इसकी पुष्टि की.उन्होंने कहा, ‘हां, ये पहली बार है जब घरेलू महिला टीमों की कप्तान और उनके मुख्य कोचों को सम्मेलन में बुलाया गया है. उनकी प्रतिक्रिया बहुत अहम है. हम जानना चाहेंगे कि उन्हें पिछले घरेलू सत्र के बारे में उन्हें क्या लगा.’

ग़ौरतलब है कि बीते एक दशक से भी ज़्यादा समय से बीसीसीआई यह सम्मेलन आयोजित करता रहा है. घरेलू सत्र के अंत में हर साल होने वाले इस सम्मेलन में विभिन्न रणजी टीमों के कप्तान और कोच ही अब तक बुलाए जाते रहे हैं. वे बीसीसीआई प्रशासन को बीते सत्र के बारे में अपनी प्रतिनिक्रियाएं और अनुभव बताते रहे हैं. सम्मेलन में महिला क्रिकेट टीमों के प्रतिनिधियों को अब तक शामिल नहीं किया जाता था.

बहरहाल बीसीसीआई के इस नए फ़ैसले काे बड़े बदलाव के तौर पर देखा जा रहा है. इसीलिए उम्मीद है कि आगामी सम्मेलन में झूलन गोस्वामी (बंगाल), मिताली राज (रेलवे), जेमिमा रोड्रिगेज (मुंबई) जैसी भारत की नामी खिलाड़ियों के अलावा अन्य घरेलू महिला टीमों की कप्तान-कोच भी उपस्थिति दर्ज़ कराएंगे. वर्ष 2018-19 घरेलू क्रिकेट सत्र में अलग-अलग आयु समूह के 2,024 (पुरूष और महिला)मैच खेले गए हैं. इनमें 6,471 पंजीकृत खिलाड़ियों (पुरूष और महिला) ने हिस्सा लिया है.