पाकिस्तान में बहुचर्चित ईशनिंदा मामले में बीते साल बरी की गईं ईसाई महिला आसिया बीबी चुपचाप देश छोड़कर कनाडा पहुंच गई हैं. उनके वकील ने बुधवार को मीडिया को यह जानकारी दी है.

बीबी के वकील सैफुल मलूक ने ब्रिटिश अखबार द गार्डियन को बताया, ‘यह बड़ा दिन है, आसिया बीबी पाकिस्तान छोड़कर कनाडा पहुंच गई हैं. वह अब अपने परिवार के साथ हैं. न्याय मिल गया है. कनाडा में सुरक्षित पहुंचना कार्यकर्ताओं, विदेशी राजनयिकों और उन लोगों की मेहनत का परिणाम है, जो बीबी के कठिन समय में उनके साथ रहे और उनकी रिहाई के लिए कार्य किया.’

पीटीआई के मुताबिक स्थानीय समाचार पत्र डॉन ने भी पाक विदेश मंत्रालय के एक सूत्र के हवाले से कहा है, ‘आसिया बीबी ने देश छोड़ दिया है. वह एक स्वतंत्र नागरिक हैं और अपनी स्वतंत्र इच्छा के अनुरूप यात्रा की.’

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत की रहने वाली 47 वर्षीय आसिया बीबी को 2010 में अपने पड़ोसियों के साथ विवाद में इस्लाम के अपमान का आरोप लगने के बाद दोषी ठहराया गया था. उन्हें ईश निंदा मामले में मौत की सजा सुनाई गई थी. हालांकि, चार बच्चों की इस मां ने लगातार कहा कि वह निर्दोष है पर इसके बाद भी उन्हें आठ साल जेल की कोठरी में बिताने पड़े. लेकिन, बीते साल अक्टूबर में पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें बरी कर दिया था.

इस फैसले से पाकिस्तान में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए थे. ये प्रदर्शन इस्लामिक राजनीतिक दल तहरीक-ए-लबैक ने किए थे और इसके कार्यकर्ताओं ने देश के कई इलाकों में राजमार्ग और सड़कों पर यातायात रोक दिया था. विरोध प्रदर्शन रुकवाने के लिए सरकार को कहना पड़ा था कि आसिया बीबी को देश छोड़कर नहीं जाने दिया जाएगा.