उत्तर कोरिया ने कुछ दिन पहले किए रॉकेट और बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण को ‘नियमित एवं रक्षात्मक सैन्य अभ्यास’ बताया है. साथ ही, इस परीक्षण की आलोचना करने वाले दक्षिण कोरिया की निंदा की है. उत्तर कोरिया की आधिकारिक समाचार एजेंसी केसीएनए ने एक सैन्य प्रवक्ता का बयान जारी कर दक्षिण कोरिया की आलोचना को ‘बहाना बनाने के लिए गढ़ी गई कहानी’ बताया. पीटीआई के मुताबिक इसके कुछ घंटे बाद ही दक्षिण कोरिया, अमेरिका और जापान के वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों ने सियोल में उत्तर कोरिया के प्रक्षेपणों एवं अन्य सुरक्षा मुद्दों पर चर्चा करने के लिए मुलाकात की.

दरअसल दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति भवन और रक्षा मंत्रालय ने शनिवार के प्रक्षेपणों को लेकर चिंता जताई थी. उसका कहना था कि यह ‘अंतर कोरियाई सैन्य समझौते’ की भावना के विरुद्ध है. पिछले साल दोनों देशों के बीच सभी शत्रुतापूर्ण कार्रवाइयों पर लगाम लगाने के मकसद से यह समझौता किया गया था. इसके तहत उत्तर कोरिया से ऐसी गतिविधियों से बचने की अपील की गई थी जिससे तनाव बढ़ सकता है.

लेकिन शनिवार को उत्तर कोरिया ने लंबी दूरी के कई रॉकेटों का प्रक्षेपण अभ्यास किया. इसे वहां की सरकारी मीडिया ने अपने सर्वोच्च नेता किम जोंग उन के लिए प्रसारित भी किया. जानकारों के मुताबिक इसमें एक कम दूरी की नई बैलिस्टिक मिसाइल का प्रक्षेपण भी मालूम हो रहा था.