चुनावी रैलियों में कभी-कभी मामला उल्टा भी हो जाता है. ऐसा ही कुछ भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के साथ हुआ. बुधवार को वे मध्य प्रदेश के अशोकनगर में थीं. एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने मंच से पूछा कि विधानसभा चुनावों से पहले किसानों का कर्ज माफ करने का वादा करने वाली कांग्रेस सरकार ने क्या ऐसा किया. इस पर भीड़ के एक बड़े हिस्से से जो जवाब आया उसकी उम्मीद स्मृति ईरानी को नहीं रही होगी.

मध्य प्रदेश में पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस ने वादा किया था कि अगर वह सत्ता में आई तो 21 लाख से भी ज्यादा किसानों का कर्ज माफ कर दिया जाएगा. कांटे के मुकाबले में आखिरकार पार्टी ने भाजपा को पीछे छोड़ते हुए सरकार बनाने में कामयाबी हासिल की थी.