सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को वह याचिका ख़ारिज़ कर दी जिसमें कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की नागरिकता पर सवाल उठाया गया था. मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगाेई की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा, ‘इस याचिका में सुनवाई के लायक कुछ नहीं है.’

ख़बरों के मुताबिक अदालत ने याचिका दायर करने वालों पर ही सवाल उठा दिया. उनसे पूछा कि आख़िर ‘किस चीज ने आपको अदालत का दरवाज़ा खटखटाने के लिए प्रेरित किया? किसी एक कागज़ में अगर ये लिखा है कि वे (राहुल गांधी) ब्रिटेन के नागरिक हैं तो क्या इतने भर से यह मान लिया जाएगा कि उन्हें ब्रिटिश नागरिकता मिल चुकी है? हमें इस याचिका में सुनवाई के लायक कुछ भी नज़र नहीं आता. हम इसे ख़ारिज़ कर रहे हैं.’ दिल्ली के दो नागरिकों ने यह याचिका दायर की थी.

ग़ौरतलब है कि भारतीय जनता पार्टी के नेता सुब्रमण्यन स्वामी ने 2017 में केंद्रीय गृह मंत्रालय को एक आवेदन दिया था. इसमें उन्होंने मांग की थी कि राहुल गांधी की नागरिकता की जांच कराई जाए. उन्होंने कुछ दस्तावेज़ पेश करते हुए दावा किया था कि राहुल गांधी के पास ब्रिटेन की नागरिकता भी है. उनकी इस अर्ज़ी पर गृह मंत्रालय ने इसी एक मई को कांग्रेस अध्यक्ष के नाम नोटिस जारी किया था. इसमें उनसे स्पष्टीकरण मांगा गया था. इसी आधार पर सुप्रीम कोर्ट में याचिका भी दायर हुई थी.