अमेरिका और ईरान के बीच रिश्तों में तनाव बढ़ता जा रहा है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक आदेश जारी करते हुए अब ईरान के धातु उद्योग पर प्रतिबंध लगा दिया है. उन्होंने ये कदम ईरान के उस बयान के बाद उठाया है जिसमें कहा गया था कि वो परमाणु समझौते से जुड़ी कुछ शर्तों से बाहर निकल रहा है.

ईरान के निर्यात में तेल और गैस के बाद सबसे बड़ा हिस्सा धातु उद्योग का ही है. इससे पहले अमेरिका ईरान के तेल और गैस कारोबार पर भी प्रतिबंध लगा चुका है.

उधर, ईरान के साथ परमाणु समझौते में शामिल ब्रिटेन, फ्रांस और जर्मनी ने उसे इस समझौते के नियमों को न तोड़ने की चेतावनी दी है. इन देशों ने ईरान द्वारा दिए गए 60 दिनों के अल्टीमेटम को खारिज करते हुए यह भी कहा है कि अगर ईरान समझौते से बाहर हुआ तो उसे इसके बुरे परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं. ये समझौता 2015 में हुआ था. इसके तहत ईरान को अपना परमाणु कार्यक्रम सीमित करना था और बदले में उस पर लगे प्रतिबंधों में ढील दी जानी थी.

इससे पहले ईरान ने यूरोपीय देशों से कहा था कि वह 2015 के समझौते के तहत कुछ प्रतिबंधों पर बनी सहमति से पीछे हट सकता है. उसने चेतावनी दी थी कि अगर यूरोप, चीन और रूस प्रतिबंधों पर 60 दिनों के अंदर राहत देने में विफल रहे तो वह आगे की कार्यवाही करेगा.