क्रिकेटर से नेता बनने की राह पर निकले गौतम गंभीर इसकी शुरुआत में ही सियासी दांव-पेंच में उलझ गए हैं. भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें पूर्वी दिल्ली सीट से उम्मीदवार बनाया है. यहां आम आदमी पार्टी (आप) ने आतिशी मर्लेना को टिकट दिया है, जिनके साथ गंभीर का ‘पर्चा युद्ध’ इन दिनों चर्चा में है. इसके लिए गौतम गंभीर ने आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल और अन्य नेताओं को मानहानि का नोटिस भेजा है. साथ में यह भी कहा है, ‘उन्हें पता नहीं था कि अरविंद केजरीवाल इतने नीचे गिर सकते हैं.’

ख़बरों के मुताबिक गौतम गंभीर ने उनके ख़िलाफ़ लगाए गए सभी आरोपों को ख़ारिज़ किया है. यह भी कहा है कि अगर उन पर लगाए गए आरोप साबित हो जाएं तो वे अपनी उम्मीदवारी छोड़ देंगे. गंभीर ने कहा, ‘मैं एक ऐसे परिवार से आता हूं जहां औरतों की इज्ज़त की जाती है. इसीलिए जो भी हुआ उसकी मैं निंदा करता हूं.’ उन्होंने ट्वीट भी किया. इसमें लिखा, ‘एक महिला, वह भी आपकी (केजरीवाल की) सहयोगी, के सम्मान को इस तरह दांव पर लगाने की वज़ह से मैं आप से नफ़रत करता हूं. यह सब किसलिए? सिर्फ़ चुनाव जीतने के लिए? मुख्यमंत्री जी आपके दिमाग में भरी गंदगी को साफ़ करने के लिए आपको अपनी ही झाड़ू (आप का चुनाव चिह्न) की ज़रूरत है.’

ग़ौरतलब है कि पूर्वी दिल्ली के कुछ इलाकों में आतिश मर्लेना के ख़िलाफ़ आपत्तिजनक पर्चे बंटवाए जाने की ख़बर सामने आई है. मर्लेना और आप नेताओं का आरोप है कि यह सब गौतम गंभीर और उनकी पार्टी- भाजपा ने कराया है. इसके लिए आप ने गंभीर और भाजपा के ख़िलाफ़ मानहानि का मुक़दमा दायर करने की बात कही है. ज़वाब में गंभीर ने आप नेताओं (अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसौदिया और आतिशी मर्लेना) के ख़िलाफ़ मानहानि का मुक़दमा दायर कर दिया है.