प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए सेना के जवान चुनाव आयोग की इजाजत का इंतजार नहीं कर सकते. रविवार को उत्तर प्रदेश के देवरिया में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने यह बात कही. जम्मू-कश्मीर के शोपियां में हुए एक एनकाउंटर का हवाला देते हुए उन्होंने कहा, ‘वे (आतंकी) बम और बंदूकें लेकर (सैनिकों के) सामने खड़े थे. क्या मेरे जवान गोली चलाने के लिए चुनाव आयोग की मंजूरी लेंगे?’

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक प्रधानमंत्री ने कहा, ‘आज सुबह मैं रिपोर्टों देख रहा था कि कश्मीर में आतंकियों को ढेर कर दिया गया. अब कुछ लोग बेचौन हो गए कि चुनाव मतदान के समय मोदी ने आतंकियों को क्यों मारा.’ मोदी ने आगे कहा, ‘मैं जब से कश्मीर गया, तब से हर दूसरे-तीसरे दिन आतंकियों को मार गिराया जाता है. यह मेरा सफाई अभियान मेरा काम है.’

इसके अलावा प्रधानमंत्री मोदी ने भगोड़े कारोबारी विजय माल्या पर भी बात की. उन्होंने माल्या का नाम लिए बिना कहा कि उनकी सरकार ने माल्या की संपत्तियों को सीज कर उस पर बकाए 9,000 करोड़ रुपये में से एक चौथाई की भरपाई कर ली है. मोदी ने कहा, ‘सरकार के कुछ लोगों और कुछ बैंक अधिकारियों की मदद से एक भ्रष्ट व्यक्ति देश के गरीबों का पैसा लेकर विदेश भाग गया. लेकिन आपके चौकीदार ने कार्रवाई की और उसका चुराया 25 प्रतिशत से ज्यादा पैसा जब्त कर लिया. एक मजबूत और ईमानदार सरकार ही ऐसा कर सकता है.’