फानी तूफान को गुजरे हुए 10 दिन बीत चुके हैं. लेकिन ओडिशा अब तक इसकी मार से उबर नहीं पाया है. ख़बरों के मुताबिक इस तूफान की वज़ह से हुई घटनाओं में मरने वालों की संख्या अब तक 64 हो चुकी है. इनमें भी सबसे ज़्यादा 39 लोग पुरी में मारे गए हैं.

पुरी के अलावा, खुर्दा में नौ, कटक में छह, जैपुर और मयूरभंज में चार-चार तथा केंद्रपाड़ा में तीन लोगों की मौत हुई है. इसके अलावा प्रभावित जिलों में लगभग 34 लाख जानवर मारे गए हैं. तूफान से राज्य के एक करोड़ 65 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं. ग़ौरतलब है कि फानी तूफान ओडिशा के पुरी तट से तीन मई को टकराया था, इससे हुई तबाही का मंज़र अब भी राज्य के कई जिलों में देखा जा सकता है.

सरकारी आंकड़ाें के मुताबिक पुरी, खुर्दा, कटक, जैपुर, कोणार्क, गंजाम, गजपति, नीमपाड़ा, केंद्रपाड़ा, भुवनेश्वर आदि शहरों में 43,643 किलोमीटर बिजली की लाइनें और 64,304 ट्रांसफार्मर ध्वस्त हो गए हैं. इससे प्रभावित इलाकों में पीने के पानी की आपूर्ति बुरी तरह चरमरा गई है. दूरसंचार लाइनाें का भी यही हाल है. लाखों के तादाद में घर-मकान और अन्य इमारतें ढही हैं. अधिकारियों की मानें तो धीरे-धीरे हालात को पटरी पर लाने की कोशिश की जा रही है. लेकिन तूफान से पहले जैसी स्थिति हासिल करने में निश्चित रूप से काफ़ी वक़्त लगने वाला है.