वर्ष 1984 के सिख विरोधी दंगों को लेकर ओवरसीज कांग्रेस के प्रमुख सैम पित्रोदा के बयान पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने फिर से सफाई दी है. उन्होंने कहा है, ‘सैम पित्रोदा के उस बयान को लेकर मैंने उनसे फोन पर बात की थी. मैंने उनसे कहा कि आपने उन दंगों को लेकर जो कुछ भी कहा है वह गलत है. इसके लिए आपको शर्मिंदा होना चाहिए. साथ ही आपने जो कहा है उसके लिए आपको सार्वजनिक तौर पर देश से माफी मांगनी चाहिए.’ राहुल गांधी ने ये बातें सोमवार को पंजाब के फतेहगढ़ साहिब में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहीं.

इससे पहले सैम पित्रोदा ने बीते हफ्ते पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए सिख दंगों को लेकर विवादित बयान दिया था. उन्होंने कहा था कि ‘जो हुआ वह हुआ’ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के लोग बताएं कि पिछले पांच साल में उन्होंने क्या किया है. उस बयान की चौतरफा आलोचना से कांग्रेस बचाव की मुद्रा में आ गई थी. इसके बाद कांग्रेस ने उस बयान को पित्रोदा का ‘निजी विचार’ बताते हुए उससे किनारा भी कर लिया था.

इसके बाद सैम पित्रोदा ने उस बयान को लेकर सफाई दी थी. साथ ही कहा था कि वे कहना चाहते थे - ‘जो हुआ वह गलत हुआ’ चाहते थे लेकिन उनसे चूक हो गई. ऐसा दिमाग में ठीक से अनुवाद नहीं हो पाने की वजह से हुआ. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा था कि उनके बयान को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया इसके लिए उन्हें खेद है. साथ ही उन्होंने उस बयान के लिए सार्वजनिक रूप से माफी भी मांगी थी.

इससे पहले बीते हफ्ते ही सैम पित्रोदा के उस बयान के बाद राहुल गांधी ने फेसबुक पर भी एक पोस्ट लिखी थी. उसमें उन्होंने 1984 के सिख दंगों को ‘अनावश्यक त्रासदी’ बताते हुए ‘असीम पीड़ा’ पहुंचाने वाला बताया था. इसके साथ ही कांग्रेस अध्यक्ष ने यह भी लिखा था कि उन दंगों को लेकर उनकी मां सोनिया गांधी सहित पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह भी माफी मांग चुके हैं. कांग्रेस समझती है कि ऐसे दंगों को कभी नहीं होना चाहिए था.