तमिलनाडु की मुख्य विपक्षी पार्टी- द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) अध्यक्ष एम के स्टाालिन ने मंगलवार को साफ कहा कि लोकसभा ‘चुनाव के बाद ग़ैर-भाजपाई और ग़ैर-कांग्रेस दलों के तीसरे मोर्चे की कोई गुंजाइश नहीं है. हालांकि इस पर निर्णय 23 मई को चुनाव नतीज़ों के बाद हो सकेगा.’

एमके स्टालिन ने इन ख़बरों का भी खंडन किया कि तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (राव) अभी हाल ही में उनसे तीसरे मोर्चे के गठन के बाबत बातचीत करने आए थे. उन्होंने कहा, ‘वह (राव) यहां गठबंधन पर बातचीत करने नहीं आए थे. वह तमिलनाडु के विभिन्न मंदिरो में पूजा-अर्चना के उद्देश्य से यहां पहुंचे थे. इसी क्रम में औपचारिक भेंट करने के लिए उन्होंने मुझसे समय मांगा था.’

ग़ौरतलब है कि तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के प्रमुख केसीआर बीते काफी समय से ग़ैर-कांग्रेस, ग़ैर-भाजपा दलों काे मिलाकर तीसरे मोर्चे के गठन की कोशिश कर रहे हैं. इस सिलसिले में उन्होंने बीते दिनों केरल के मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन से भी मुलाकात की थी. फिर वे एमके स्टालिन से मिले थे. हालांकि इस दिशा में उनके प्रयास अब तक कोई ख़ास असर नहीं दिखा पाए हैं.